h n

कोरोना महामारी के इस दौर में उम्मीद और हिम्मत है दवा

अगर आप कोविड से संक्रमित पाए जाते हैं तो घबराने की कतई ज़रुरत नहीं है। इस बीमारी के शुरूआती चरणों में इससे लड़ने के लिए बहुत सरल और कारगर तरीके उपलब्ध हैं

मार्च, 2020 में मैंने फारवर्ड प्रेस में एक लेख लिखा था जिसका शीर्षक था “कोविड 19 : आस्था रखें, विवेक से काम लें”। उसके बाद फारवर्ड प्रेस के संपादकों ने मुझसे इस लेख का फॉलोअप लिखने के लिए कहा। परन्तु उस समय तक संपूर्ण परिदृश्य अस्पष्ट था।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : कोरोना महामारी के इस दौर में उम्मीद और हिम्मत है दवा

लेखक के बारे में

डॉ. सिल्विया फर्नांडिस

डा. सिल्विया फर्नांडिस सेवानिवृत्त प्लास्टिक सर्जन हैं, जो फॉरवर्ड प्रेस के मुद्रित संस्करण में शारीरिक व भावनात्मक स्वास्थ्य पर लेखन करती थीं

संबंधित आलेख

अखबारों में ‘सवर्ण आरक्षण’ : रिपोर्टिंग नहीं, सपोर्टिंग
गत 13 सितंबर, 2022 से सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ईडब्ल्यूएस आरक्षण की वैधता को लेकर सुनवाई कर रही है। लेकिन अखबारों...
न्याय को भटकते गोमपाड़ के आदिवासी
सवाल यह नहीं है कि 2009 में सुकमा इलाक़े में मारे गए 16 लोग नक्सली थे या नहीं। सवाल यह है कि देश के...
बहस-तलब : सशक्त होती सरकार, कमजोर होता लोकतंत्र
सुप्रीम कोर्ट ने एक बार कहा था कि विचारों के आधार पर आप किसी को अपराधी नहीं बना सकते। आज भी देश की जेलों...
दलित पैंथर : पचास साल पहले जिसने रोक दिया था सामंती तूफानों को
दलित पैंथर के बारे में कहा जाता है कि उसका नाम सुनते ही नामी गुंडे भी थर्रा उठते थे और दलित पैंथर के उभार...
दलित पैंथर : पचास साल पहले जिसने रोक दिया था सामंती तूफानों को
दलित पैंथर के बारे में कहा जाता है कि उसका नाम सुनते ही नामी गुंडे भी थर्रा उठते थे और दलित पैंथर के उभार...