h n

शोषित किसानों के सखा जोतीराव फुले और वर्तमान का किसान आंदोलन

आज जिन आशंकाओं को लेकर भारत के किसान सरकार के तीन कृषि कानूनों को लेकर आंदोलनरत हैं, उनके बारे में जोतीराव फुले ने 140 साल पहले आवाज उठाई थी। यह महज संयोग नहीं है। बता रहे हैं अनिल वर्गीज

यदि महात्मा जोतीराव फुले आज जीवित होते तो वे दिलो-जान से किसानों के आंदोलन का समर्थन करते और मराठाओं के लिए आरक्षण की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं की सुनवाई कर रहे उच्चतम न्यायालय से दो टूक कहते कि “महारों से लेकर ब्राह्मणों तक हम सभी मराठी भाषी, मराठा के नाम से जाने जाते हैं। केवल मराठा शब्द से किसी व्यक्ति की जाति का पता नहीं लगाया जा सकता।” फुले ने एक मराठा कुनबी से ठीक यही कहा था जब उसने अपना परिचय मराठा के रूप में दिया।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : शोषित किसानों के सखा जोतीराव फुले और वर्तमान का किसान आंदोलन

लेखक के बारे में

अनिल वर्गीज

अनिल वर्गीज फारवर्ड प्रेस के प्रधान संपादक हैं

संबंधित आलेख

फुले, आंबेडकर और बहुजनों का आंदोलन
फुले द्वारा प्रतिपादित आरक्षण का सिद्धांत क्रांतिकारी है। उनके इस विचार में आक्रामकता थी। मौजूदा दौर में आरक्षण का जो सिद्धांत संविधान के माध्यम...
फुलेवाद और मार्क्सवाद के बीच साम्यता के विविध बिंदु (पहला भाग)
मार्क्स ने कहा कि शोषणकारी वर्ग व्यवस्था को उखाड़ फेंकने के लिए वर्ग व्यवस्था से सर्वाधिक पीड़ित अर्थात कामगार लड़ेगा। वहीं फुले ने कहा...
पद्मश्री रामचंद्र मांझी : नाच हऽ कांच बात हऽ सांच
रामचंद्र मांझी ने अपना पूरा जीवन भिखारी ठाकुर के लौंडा के रूप में व्यतीत किया। लेकिन उनके योगदान को सरकार ने जीवन के अंतिम...
जब पहली बार जातिगत तानों का जवाब दिया मुलायम सिंह यादव ने
वर्ष 1977 में राम नरेश यादव की सरकार में मुलायम सिंह यादव को सहकारिता और पशुपालन मंत्री बनाया गया। उन्हें उस दौरान कोई गंभीरता...
मुलायम सिंह यादव : सियासत में ऊंची जातियों के वर्चस्व के भंजक
मुलायम सिंह यादव ने एक सपना देखा– दलित-पिछड़ों की एकता का सपना या यह कहना चाहिए कि बहुजन एकता का सपना। उन्होंने जब बाबरी...