h n

झारखंड के आदिवासी गीतों में हूल विद्रोह और मांदर की थाप

वरिष्ठ साहित्यकार वंदना टेटे के मुताबिक, किसी भी आदिवासी आंदोलन में सीधा संघर्ष नहीं हुआ। कहने का अर्थ है कि आदिवासी सीधे भाला, तीर-कमान लेकर विरोध करने नहीं उतरे। पहले गीतों के जरिये अपने संदेश को पहुंचाया और लोगों को जागरूक किया। बता रही हैं प्रियंका

हूल विद्रोह दिवस (30 जून, 1855) पर विशेष

जल-जंगल-जमीन की लड़ाई सदियों पुरानी है। आज भी आदिवासी समुदाय के लोग अपनी मूलभूत मांगों को लेकर संघर्षरत हैं। हूल दिवस हमें हमारे ऐसे ही संघर्ष की याद दिलाता है। जब करीब 150 साल पहले झारखंड के आदिवासियों ने अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह का बिगुल फूंका था। हालांकि इतिहासकारों ने 1857 के सिपाही विद्रोह को अंग्रेजों के खिलाफ पहली लड़ाई की उपमा दी हो, लेकिन झारखंड के आदिवासियों ने 30 जून,,1855 को ही अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ झंडा बुलंद कर दिया था। सिदो और कान्हू के नेतृत्व में मौजूदा साहेबगंज जिले के भगनाडीह गांव से हूल विद्रोह शुरू हुआ था। इस मौके पर सिदो ने नारा दिया था, “करो या मरो, अंग्रेजों हमारी माटी छोड़ो”।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : झारखंड के आदिवासी गीतों में हूल विद्रोह और मांदर की थाप

लेखक के बारे में

प्रियंका

रांची विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर प्रियंका झारखंड में पिछले एक दशक से विभिन्न मीडिया संस्थानों से संबद्ध रही हैं। इन संस्थानों में देशलाइव टीवी, नक्षत्र न्यूज, कशिश न्यूज और न्यूजविंग डॉट कॉम आदि शामिल हैं।

संबंधित आलेख

गांधी को आंबेडकर की नजर से देखें दलित-बहुजन
आधुनिक काल में गांधी ऊंची जातियों और उच्च वर्ग के पुरुषों के ऐसे ही एक नायक रहे हैं, जो मूलत: उनके ही हितों के...
दलित कविता में प्रतिक्रांति का स्वर
उत्तर भारत में दलित कविता के क्षेत्र में शून्यता की स्थिति तब भी नहीं थी, जब डॉ. आंबेडकर का आंदोलन चल रहा था। उस...
पुनर्पाठ : सिंधु घाटी बोल उठी
डॉ. सोहनपाल सुमनाक्षर का यह काव्य संकलन 1990 में प्रकाशित हुआ। इसकी विचारोत्तेजक भूमिका डॉ. धर्मवीर ने लिखी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि...
उत्तर भारत की महिलाओं के नजरिए से पेरियार का महत्व
ई.वी. रामासामी के विचारों ने जिस गतिशील आंदोलन को जन्म दिया उसके उद्देश्य के मूल मे था – हिंदू सामाजिक व्यवस्था को जाति, धर्म...
सत्यशोधक फुले
ज्योतिबा के पास विचारों की समग्र प्रणाली थी और वह उन प्रारंभिक विचारकों में से थे, जिन्होंने भारतीय समाज में वर्गों की पहचान की...