h n

जानती हूं कि सरकार एक दिन या तो जेल में बंद करेगी या गोली मार देगी : सोनी सोरी

पैगासस प्रकरण में दलित-बहुजन विचारों को लेकर काम करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकारों की जासूसी कराए जाने का मामला सामने आया है। फारवर्ड प्रेस ने सोनी सोरी, डिग्री प्रसाद चौहान, अशोक भारती और रूपेश कुमार सिंह व ईप्सा शताक्षी से दूरभाष पर बातचीत की

“मैं जानती हूं कि मैं जो बस्तर में अपने लोगों के हक-हुकूक के लिए कर रही हूं, इसके लिए सरकार हमें जेल भी भेज सकती है और चाहे तो गोली भी मार सकती है। जासूसी कराने के पीछे उनका मकसद यही रहा होगा कि सोनी सोरी के खिलाफ कुछ सबूत मिल जाय ताकि उसके आधार पर उसे जेल भेजा जाय और अंतत: उसे काम करने से रोका जाय। और क्या कारण हो सकता है मेरी जासूसी का?” ये बातें फारवर्ड प्रेस से दूरभाष पर बातचीत में छत्तीसगढ़ की प्राख्यात सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी ने कही।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : जानती हूं कि सरकार एक दिन या तो जेल में बंद करेगी या गोली मार देगी : सोनी सोरी

लेखक के बारे में

नवल किशोर कुमार

नवल किशोर कुमार फॉरवर्ड प्रेस के संपादक (हिन्दी) हैं।

संबंधित आलेख

दुर्गा पाठ के बदले संविधान पाठ की सलाह देने पर दलित प्रोफेसर बर्खास्त
डॉ. मिथिलेश कहते हैं कि “हम नौकरी में हैं तो क्या अपना विचार नहीं रख सकते। उन्हें बस अपना वर्चस्व स्थापित करना है और...
गांधी को आंबेडकर की नजर से देखें दलित-बहुजन
आधुनिक काल में गांधी ऊंची जातियों और उच्च वर्ग के पुरुषों के ऐसे ही एक नायक रहे हैं, जो मूलत: उनके ही हितों के...
अंकिता हत्याकांड : उत्तराखंड में बढ़ता जनाक्रोश और जाति का सवाल
ऋषिकेश के जिस वनंतरा रिजार्ट में अंकिता की हत्या हुई, उसका मालिक भाजपा के ओबीसी प्रकोष्ठ का नेता रहा है और उसके बड़े बेटे...
महाकाल की शरण में जाने को विवश शिवराज
निश्चित तौर पर भाजपा यह चाहेगी कि वह ऐसे नेता के नेतृत्व में चुनाव मैदान में उतरे जो उसकी जीत सुनिश्चित कर सके। प्रधानमंत्री...
आदिवासी दर्जा चाहते हैं झारखंड, बंगाल और उड़ीसा के कुर्मी
कुर्मी जाति के लोगों का यह आंदोलन गत 14 सितंबर, 2022 के बाद तेज हुआ। इस दिन केंद्रीय मंत्रिपरिषद ने हिमालच प्रदेश की हट्टी,...