h n

क्या इसी तरह के धत्कर्म से विश्वगुरु बनेगा भारत?

इस संबंध में हमने पूर्व सांसद मो. अदीब साहब से भी बात की जो रिटायरमेंट के बाद गुड़गांव में ही रहते हैं। उन्होंने बताया कि 2017 में गुड़गांव प्रशासन ने खुद 37 जगहों पर जुमे की नमाज की इजाजत दी थी। ये जगहें सड़कें और बाजार से दूर की हैं। मगर इन जगहों पर नमाज पढ़ने नही दिया जा रहा है। वह अब यूटर्न ले चुके हैं। पढ़ें, अली अनवर का यह आलेख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को विश्वगुरु बनाने की बात करते हैं। मगर उन्ही के राज में दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में सरकार की शह पर कुछ उपद्रवी ऐसा धत्कर्म कर रहे हैं, जिसकी खबर पूरी दुनिया में जा रही है। गुरुग्राम का प्रशासन मुसलमानों को जुमा की नमाज पढने की जगह नही दे रहा है। यहां मज़बूरी में लोग खुलें में नवाज पढ़ते हैं। नमाज पढ़ने उन जगहों पर 20-25 उपद्रवी इकट्ठा होकर जय श्री राम के नारे लगाते तथा भजन करने लगते हैं। महीनों से प्रशासन इसको मूकदर्शक बना देख रहा है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी कहा है कि खुले में नमाज बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : क्या इसी तरह के धत्कर्म से विश्वगुरु बनेगा भारत?

लेखक के बारे में

अली अनवर

लेखक पूर्व राज्यसभा सांसद तथा ऑल इंडिया पसमांदा मुस्लिम महाज के संस्थापक अध्यक्ष हैं

संबंधित आलेख

केंद्रीय शिक्षा मंत्री को एक दलित कुलपति स्वीकार नहीं
प्रोफेसर लेल्ला कारुण्यकरा के पदभार ग्रहण करने के बाद राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) की विचारधारा में आस्था रखने वाले लोगों के पेट में...
आदिवासियों की अर्थव्यवस्था की भी खोज-खबर ले सरकार
एक तरफ तो सरकार उच्च आर्थिक वृद्धि दर का जश्न मना रही है तो दूसरी तरफ यह सवाल है कि क्या वह क्षेत्रीय आर्थिक...
विश्व के निरंकुश देशों में शुमार हो रहा भारत
गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय, स्वीडन में वी-डेम संस्थान ने ‘लोकतंत्र रिपोर्ट-2024’ में बताया है कि भारत में निरंकुशता की प्रक्रिया 2008 से स्पष्ट रूप से शुरू...
मंडल-पूर्व दौर में जी रहे कांग्रेस के आनंद शर्मा
आनंद शर्मा चाहते हैं कि राहुल गांधी भाजपा की जातिगत पहचान पर आधारित राजनीति को पराजित करें, मगर इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की...
‘मैं धंधेवाली की बेटी हूं, धंधेवाली नहीं’
‘कोई महिला नहीं चाहती कि उसकी आने वाली पीढ़ी इस पेशे में रहे। सेक्स वर्कर्स भी नहीं चाहतीं। लेकिन जो समाज में बैठे ट्रैफिकर...