क्या इसी तरह के धत्कर्म से विश्वगुरु बनेगा भारत?

इस संबंध में हमने पूर्व सांसद मो. अदीब साहब से भी बात की जो रिटायरमेंट के बाद गुड़गांव में ही रहते हैं। उन्होंने बताया कि 2017 में गुड़गांव प्रशासन ने खुद 37 जगहों पर जुमे की नमाज की इजाजत दी थी। ये जगहें सड़कें और बाजार से दूर की हैं। मगर इन जगहों पर नमाज पढ़ने नही दिया जा रहा है। वह अब यूटर्न ले चुके हैं। पढ़ें, अली अनवर का यह आलेख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को विश्वगुरु बनाने की बात करते हैं। मगर उन्ही के राज में दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में सरकार की शह पर कुछ उपद्रवी ऐसा धत्कर्म कर रहे हैं, जिसकी खबर पूरी दुनिया में जा रही है। गुरुग्राम का प्रशासन मुसलमानों को जुमा की नमाज पढने की जगह नही दे रहा है। यहां मज़बूरी में लोग खुलें में नवाज पढ़ते हैं। नमाज पढ़ने उन जगहों पर 20-25 उपद्रवी इकट्ठा होकर जय श्री राम के नारे लगाते तथा भजन करने लगते हैं। महीनों से प्रशासन इसको मूकदर्शक बना देख रहा है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी कहा है कि खुले में नमाज बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : क्या इसी तरह के धत्कर्म से विश्वगुरु बनेगा भारत?

About The Author

Reply