h n

क्या इसी तरह के धत्कर्म से विश्वगुरु बनेगा भारत?

इस संबंध में हमने पूर्व सांसद मो. अदीब साहब से भी बात की जो रिटायरमेंट के बाद गुड़गांव में ही रहते हैं। उन्होंने बताया कि 2017 में गुड़गांव प्रशासन ने खुद 37 जगहों पर जुमे की नमाज की इजाजत दी थी। ये जगहें सड़कें और बाजार से दूर की हैं। मगर इन जगहों पर नमाज पढ़ने नही दिया जा रहा है। वह अब यूटर्न ले चुके हैं। पढ़ें, अली अनवर का यह आलेख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को विश्वगुरु बनाने की बात करते हैं। मगर उन्ही के राज में दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में सरकार की शह पर कुछ उपद्रवी ऐसा धत्कर्म कर रहे हैं, जिसकी खबर पूरी दुनिया में जा रही है। गुरुग्राम का प्रशासन मुसलमानों को जुमा की नमाज पढने की जगह नही दे रहा है। यहां मज़बूरी में लोग खुलें में नवाज पढ़ते हैं। नमाज पढ़ने उन जगहों पर 20-25 उपद्रवी इकट्ठा होकर जय श्री राम के नारे लगाते तथा भजन करने लगते हैं। महीनों से प्रशासन इसको मूकदर्शक बना देख रहा है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी कहा है कि खुले में नमाज बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : क्या इसी तरह के धत्कर्म से विश्वगुरु बनेगा भारत?

लेखक के बारे में

अली अनवर

लेखक पूर्व राज्यसभा सांसद तथा ऑल इंडिया पसमांदा मुस्लिम महाज के संस्थापक अध्यक्ष हैं

संबंधित आलेख

बहस-तलब : कौन है श्वेता-श्रद्धा का गुनहगार?
डॉ. आंबेडकर ने यह बात कई बार कही कि जाति हमारी वैयक्तिकता का सम्मान नहीं करती और जिस समाज में वैयक्तिता नहीं है, वह...
ओबीसी के हितों की अनदेखी नहीं होने देंगे : हंसराज गंगाराम अहिर
बहुजन साप्ताहिकी के तहत इस बार पढ़ें ईडब्ल्यूएस संबंधी संविधान पीठ के फैसले को कांग्रेसी नेत्री जया ठाकुर द्वारा चुनाैती दिये जाने व तेलंगाना...
धर्मांतरण देश के लिए खतरा कैसे?
इस देश में अगर धर्मांतरण पर शोध किया जाए, तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आएंगे। और वह यह कि सबसे ज्यादा धर्म-परिवर्तन इस देश...
डिग्री प्रसाद चौहान के खिलाफ मुकदमा चलाने की बात से क्या कहना चाहते हैं तुषार मेहता?
पीयूसीएल की छत्तीसगढ़ इकाई के अध्यक्ष और मानवाधिकार कार्यकर्ता डिग्री प्रसाद चौहान द्वारा दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान तुषार मेहता...
भोपाल में आदिवासियों ने कहा– हम बचा लेंगे अपनी भाषा, बस दमन-शोषण बंद करे सरकार
अश्विनी कुमार पंकज के मुताबिक, एक लंबे अरसे तक राजकीय संरक्षण हासिल होने के बाद भी संस्कृत आज खत्म हो रही है। वहीं नागा,...