h n

धर्म राज्य की स्थापना के नाम पर ब्राह्मण राज्य की आहट

भागवत के शब्दों में भी इसकी आहट प्रतिध्वनित हो रही हैं कि जो संस्था और व्यक्ति धर्म और राष्ट्र के उत्थान में कार्यरत हैं, संघ उनका सहयोगी हैं। इसका संदेश बहुत साफ़ हैं कि या तो उनके द्वारा गढ़ी गई परिभाषाओं के धर्म व राष्ट्र के उत्थान में लगें, अन्यथा पतन के लिए तैयार रहें। बता रहे हैं भंवर मेघवंशी

देश में दक्षिणपंथी धारा के व्यक्तियों और समूहों के लोगों की ज़हर उगलती हुई ज़ुबानें निरंतर लंबी होती जा रही हैं। कहीं चिंतन बैठकें चल रही हैं तो कहीं धर्म संसदें, सब तरफ़ अराजकतापूर्ण भाषा में देश के संविधान, क़ानून और व्यवस्था की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। निर्वाचन की राजनीति में लगातार मिल रही सफलताओं से उत्साहित सांप्रदायिक तत्व पूरी तरह से निरंकुश हो चुके हैं। वे अब भारतीय राष्ट्र राज्य को चुनौती दे रहे हैं। संविधान को ललकार रहे हैं और देश को धार्मिक राष्ट्र राज्य बनाने को आतुर हो चले हैं।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : धर्म राज्य की स्थापना के नाम पर ब्राह्मण राज्य की आहट

लेखक के बारे में

भंवर मेघवंशी

भंवर मेघवंशी लेखक, पत्रकार और सामाजिक-सांस्कृतिक कार्यकर्ता हैं। उन्होंने आरएसएस के स्वयंसेवक के रूप में अपना सार्वजनिक जीवन शुरू किया था। आगे चलकर, उनकी आत्मकथा ‘मैं एक कारसेवक था’ सुर्ख़ियों में रही है। इस पुस्तक का अंग्रेजी अनुवाद हाल में ‘आई कुड नॉट बी हिन्दू’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ है। संप्रति मेघवंशी ‘शून्यकाल डॉट कॉम’ के संपादक हैं।

संबंधित आलेख

क्यों बख्शें तुलसी को?
अगर मंडल कमीशन और सिमोन द बुआ का स्त्री-विमर्श आ भी गया होता, तब भी तुलसी स्त्री-शूद्र के समर्थक नहीं होते, क्योंकि जब मंडल...
बुद्धि और विवेक पर मीडिया का पुरोहितवादी हमला
एंकर ने मुझसे जानना चाहा कि क्या सनातन धर्म में चमत्कार होते हैं? मेरा जवाब था– मैं तो नहीं जानता। माइंड रीडिंग करने वाले...
उत्तर भारत में ओबीसी ने रामचरितमानस के खिलाफ बजाया विद्रोह का डंका
यह कदाचित पहली बार है कि उत्तर भारत के शूद्र और दलित राजनेता, प्राचीन और मध्यकाल में ब्राह्मणों के जातिवादी (कथित हिंदू) लेखन के...
आजमगढ़ का खिरिया बाग आंदोलन : ग्रामीण महिलाएं संभाल रहीं मोर्चा
धरने पर बैठीं जमुआ गांव की केवलपत्ती देवी से एक पत्रकार जब पूछती हैं कि कब तक आप सब ये आंदोलन चलाएंगीं तो वे...
दलित-बहुजनों को अपमानित करनेवाली किताबों को जलाने या न जलाने का प्रश्न
सवाल उठता है कि यदि ‘रामचरितमानस’ और ‘मनुस्मृति’ नहीं जलाई जानी चाहिए, तो रावण का पुतला जलाना भी बंद होना चाहिए, होलिका दहन भी...