h n

निशाने पर क्यों हैं आफरीन फातिमा, जिनकी मां का घर यूपी पुलिस ने ढाह दिया?

वह अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय महिला कॉलेज छात्र संघ की अध्यक्ष भी रह चुकी हैं। आफरीन की सोच और काम की वजह से अलीगढ़ के अंदर के दकियानूस पुरुषों और कॉलेज प्रशासन को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। अगर सही तरीके से देखा जाए तो मुस्लिम महिलाओं का दुश्मन सांप्रदायिक और पितृसत्ता में विश्वास रखने वाला समाज दोनों होता है। बता रहे हैं अभय कुमार

बीते दिनों आफरीन फातिमा का घर उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की हुकूमत ने बुलडोजर चलाकर ध्वस्त कर दिया। देखा यह जा रहा है कि शरजील इमाम, उमर खालिद, मीरान हैदर के बाद अब आफरीन फातिमा हुकूमत के निशाने पर हैं। हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब इस तरह से आवाज दबाने की कोशिश की गई है। इससे पहले भी जब कभी शोषित वर्गों की ओर से कोई शक्तिशाली आवाज उठती है, तो हुकूमत की कोशिश रहती है कि उसे किसी न किसी बहाने उसे जनता की नजरों में देशद्रोही साबित कर दिया जाए और किसी न किसी मामले में फंसाकर जेल भेज दिया जाय। इस तरह यह संदेश देने की कोशिश की जाती है कि अगर दबे कुचले समाज में से कोई भी अपने अधिकारों के लिए लड़ने के लिए आएगा तो उसको मिटा दिया जाएगा, जैसे आफरीन फतिमा की मां के घर को ध्वस्त कर दिया गया।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : निशाने पर क्यों हैं आफरीन फातिमा, जिनकी मां का घर यूपी पुलिस ने ढाह दिया?

लेखक के बारे में

अभय कुमार

जेएनयू, नई दिल्ली से पीएचडी अभय कुमार संप्रति सम-सामयिक विषयों पर विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के लिए स्वतंत्र लेखन करते हैं।

संबंधित आलेख

उत्तर प्रदेश : स्वामी प्रसाद मौर्य को जिनके कहने पर नकारा, उन्होंने ही दिया अखिलेश को धोखा
अभी कुछ ही दिन पहले की बात है जब मनोज पांडेय, राकेश पांडेय और अभय सिंह जैसे लोग सपा नेतृत्व पर लगातार दबाव बना...
पसमांदा केवल वोट बैंक नहीं, अली अनवर ने जारी किया एजेंडा
‘बिहार जाति गणना 2022-23 और पसमांदा एजेंडा’ रपट जारी करते हुए अली अनवर ने कहा कि पसमांदा महाज की लड़ाई देश की एकता, तरक्की,...
‘हम पढ़ेंगे लिखेंगे … क़िस्मत के द्वार खुद खुल जाएंगे’  
दलित-बहुजन समाज (चमार जाति ) की सीमा भारती का यह गीत अब राम पर आधारित गीत को कड़ी चुनौती दे रहा है। इस गीत...
अयोध्या में राम : क्या सोचते हैं प्रयागराज के दलित-बहुजन?
बाबरी मस्जिद ढहाने और राम मंदिर आंदोलन में दलित-बहुजनों की भी भागीदारी रही है। राम मंदिर से इन लोगों को क्या मिला? राम मंदिर...
सरकार के शिकंजे में सोशल मीडिया 
आमतौर पर यह माना जाने लगा है कि लोगों का ‘प्यारा’ सोशल मीडिया सरकार का खिलौना बन गया है। केंद्र सरकार ने कानूनों में...