h n

पुस्तक समीक्षा : आंबेडकर का चिंतन गांधी की आलोचना का तीसरा स्कूल

गांधी और गांधीवाद पर डॉ. आंबेडकर की आलोचना को जानना इसलिए भी जरूरी है कि आंबेडकर-विचार के बिना गांधी और गांधीवाद का कोई भी अध्ययन पूरा नहीं हो सकता, वह अधूरा ही रहेगा। क्योंकि गांधी के असली रूप को केवल डॉ. आंबेडकर ही देख सकते थे, जो हिंदू समाज-व्यवस्था में अंतिम पायदान के व्यक्ति थे। बता रहे हैं कंवल भारती

आंबेडकर-गांधी विवाद इसलिए प्रासंगिक नहीं है, कि आज न आंबेडकर हैं और न गांधी, तो जख्म क्यों कुरेदे जाएँ? यह विवाद जख्म कुरेदने से सम्बन्धित नहीं है, बल्कि यह विचारधारा का विवाद है। और यह विवाद इसलिए प्रासंगिक है, क्योंकि आंबेडकर और गांधी दो व्यक्ति न होकर, दो अलग-अलग विचारधाराएँ हैं। आंबेडकर आधुनिकता के और गांधी पुरातनवाद के प्रतीक हैं। दूसरे शब्दों में, आंबेडकर का विचार स्वतंत्रता, समानता और भ्रातृत्व पर आधारित नए भारत का निर्माण का है, जबकि गांधी का विचार रामराज्य-आधारित हिंदुत्व के पुनरुत्थान का है।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : पुस्तक समीक्षा : आंबेडकर का चिंतन गांधी की आलोचना का तीसरा स्कूल

लेखक के बारे में

कंवल भारती

कंवल भारती (जन्म: फरवरी, 1953) प्रगतिशील आंबेडकरवादी चिंतक आज के सर्वाधिक चर्चित व सक्रिय लेखकों में से एक हैं। ‘दलित साहित्य की अवधारणा’, ‘स्वामी अछूतानंद हरिहर संचयिता’ आदि उनकी प्रमुख पुस्तकें हैं। उन्हें 1996 में डॉ. आंबेडकर राष्ट्रीय पुरस्कार तथा 2001 में भीमरत्न पुरस्कार प्राप्त हुआ था।

संबंधित आलेख

दुनिया नष्ट नहीं होगी, अपनी रचनाओं से साबित करते रहे नचिकेता
बीते 19 दिसंबर, 2023 को बिहार के प्रसिद्ध जन-गीतकार नचिकेता का निधन हो गया। उनकी स्मृति में एक शोकसभा का आयोजन किया गया, जिसे...
आंबेडकर के बाद अब निशाने पर कबीर
निर्गुण सगुण से परे क्या है? इसका जिक्र कर्मेंदु शिशिर ने नहीं किया। कबीर जो आंखिन-देखी कहते हैं, वह निर्गुण में ही संभव है,...
कृषक और मजदूर समाज के साहित्यिक प्रतिनिधि नचिकेता नहीं रहे
नचिकेता की कविताओं और गीतों में किसानों के साथ खेतिहर मजदूरों का सवाल भी मुखर होकर सामने आता है, जिनकी वाजिब मजदूरी के लिए...
‘संजीव का सम्मान कर साहित्य अकादमी ने खुद को किया सम्मानित’
कथाकार संजीव उदय प्रकाश और शिवमूर्ति के समकालीन हैं। राजेंद्र यादव इन तीनों में संजीव को प्रेमचंद के बाद गांव-कस्बे का सबसे बड़ा लेखक...
मैंने किसी का हक छीना हो तो कोई बताए : संजीव
बहुत साधारण-सी बात आती है कि संकट है क्या? संकट की पहचान कैसे हो? यह व्यंजनात्मक तरीके से कहा जाय कि ‘मुझे पहचानो’ अमूमन...