मायावती के दौरे के बाद दो दलितों की हत्या, राजपूतों के घर जलाए

बसपा प्रमुख मायावती के सहारनपुर दौरे के उपरांत हिंसा भड़कने से तनाव कई रुपों में सामने आ रहा है। हालांकि पुलिस घटनास्थल पर पहुंचकर स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास कर रही है, लेकिन इसके बावजूद सहारनपुर में तनाव बढने की आशंका से इन्कार नहीं किया जा सकता। ताजा हिंसा के बाद तनाव भड़काने वाले वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया जाना वजह बताया जा रहा है

नई दिल्ली/सहारनपुर : 23 मई 2017 मंगलवार को एक बार फ़िर सहारनपुर में हिंसा भड़की और दो लोगों की हत्या कर दी गयी। ताजा हिंसा बसपा प्रमुख मायावती के सहारनपुर दौरे के बाद घटित हुई है। इस घटना में करीब आधा दर्जन लोगों के गंभीर रुप से घायल होने की सूचना है।

जानकारी के अनुसार घटना तब घटित हुई जब मायावती शब्बीरपुर गांव में पीड़ित दलित परिवारों से मिलने के बाद वापस लौट गयीं। ताजा हिंसा में मरने वाले दो दलित नौजवान शब्बीरपुर से करीब 7 किलोमीटर दूर सरसावां गांव के बताये जा रहे हैं। वहीं घायल इन्दर राम के मुताबिक 10-12 की संख्या में आये राजपूत बिरादरी के लड़कों ने अचानक हिंसक हमला कर दिया। वे तलवार से लैस थे। इस हिंसा में घायल मुअस्सिर आलम के मुताबिक राजपूतों ने अचानक से हमला कर दिया। बताते चलें कि मायावती के सहारनपुर दौरे को लेकर वहां बड़ी संख्या में बसपा समर्थक मौजूद थे।

वहीं दूसरी ओर शब्बीरपुर में राजपूतों के घरों पर हमले व आगजनी की खबरें भी मिल रही हैं। जानकारी के मुताबिक बसपा प्रमुख के शब्बीरपुर पहुंचने से पहले दलितों ने राजपूतों के घरों पर हमला बोला और आगजनी की। वहीं स्थानीय दलितों के मुताबिक दलितों की ओर से कोई हमला नहीं किया गया, बल्कि राजपूतों ने खुद ही अपने घरों में आग लगायी।

स्थानीय लोगों के मुताबिक घटना के बाद हिंसा प्रभावित शब्बीरपुर गांव में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किए गए हैं और आला अधिकारी वहां पहुंच कर स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास कर रहे हैं। बीबीसी हिन्दी द्वारा जारी समाचार के मुताबिक मेरठ परिक्षेत्र के अपर पुलिस महानिदेशक आनंद कुमार ने हिंसक घटनाओं की पुष्टि करते हुए कहा कि सहारनपुर के ज़िलाधिकारी और एसएसपी समेत तमाम आला अधिकारी घटनास्थल पर मौजूद हैं।

वहीं दूसरी ओर ताजा हिंसा के बाद शब्बीरपुर में तनाव चरम पर है। इसके और उग्र होने की संभावना बढ गयी है। सोशल मीडिया पर इस संबंध में कई आपत्तिजनक वीडियो वायरल किये जा रहे हैं। इस कारण शब्बीरपुर के अलावा कई और गांवों में हिंसा की खबरें आ रही हैं।


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

About The Author

Reply