h n

मधुबनी पेंटिंग को नया आयाम दे रही हैं बहुजन महिलाएं

-मधुबनी चित्रकला पर शुरू से ही उच्च जातियों का एकाधिकार रहा है. सन् 1960 के दशक में बिहार में पड़े अकाल ने इस कला को व्यवसाय में बदल दिया, जिसके बाद से दलित और अति पिछड़ी जातियों की महिलाओं ने इसे अपनाया और इस पर अपनी विशिष्ट छाप छोड़ी

रामायण पर आधारित मौखिक आख्यानों के अनुसार, मिथिला के शासक जनक ने अपने पुत्री सीता के राम के साथ विवाह के अवसर पर मिथिला की महिलाओं को आदेश दिया कि वे चित्रों से पूरे राज्य को सजा दें। तदानुसार महिलाओं ने गाय के गोबर और प्राकृतिक रंगों से अपने घरों की दीवारों पर सुन्दर चित्र बनाए। परन्तु इन आख्यानों से यह पता नहीं चलता कि इन महिलाओं की जाति क्या थी।  

सन् 1960 के दशक के पूर्वार्द्ध में बिहार भयावह अकाल की चपेट में आ गया। चारों ओर भूख और गरीबी का आलम था। सरकार ने अकाल राहत कार्यक्रम के अंतर्गत वंचित तबकों को कृषि से इतर अन्य क्षेत्रों में जीवनयापन के साधन उपलब्ध करवाने का अभियान चलाया। इसी अभियान के अंतर्गत बम्बई के कलाकार भास्कर कुलकर्णी को  50 हजार रुपए का अनुदान उपलब्ध करवाया गया।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : मधुबनी पेंटिंग को नया आयाम दे रही हैं बहुजन महिलाएं

लेखक के बारे में

रितु

संबंधित आलेख

दलित कविता में प्रतिक्रांति का स्वर
उत्तर भारत में दलित कविता के क्षेत्र में शून्यता की स्थिति तब भी नहीं थी, जब डॉ. आंबेडकर का आंदोलन चल रहा था। उस...
पुनर्पाठ : सिंधु घाटी बोल उठी
डॉ. सोहनपाल सुमनाक्षर का यह काव्य संकलन 1990 में प्रकाशित हुआ। इसकी विचारोत्तेजक भूमिका डॉ. धर्मवीर ने लिखी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि...
कबीर पर एक महत्वपूर्ण पुस्तक 
कबीर पूर्वी उत्तर प्रदेश के संत कबीरनगर के जनजीवन में रच-बस गए हैं। अकसर सुबह-सुबह गांव कहीं दूर से आती हुई कबीरा की आवाज़...
महाराष्ट्र में आदिवासी महिलाओं ने कहा– रावण हमारे पुरखा, उनकी प्रतिमाएं जलाना बंद हो
उषाकिरण आत्राम के मुताबिक, रावण जो कि हमारे पुरखा हैं, उन्हें हिंसक बताया जाता है और एक तरह से हमारी संस्कृति को दूषित किया...
‘अगर हमारे सपने के केंद्र में मानव जाति के लिए प्रेम है, तो हमारा व्यवहार भी ऐसा होना चाहिए’
गेल ऑम्वेट गांव-गांव जाकर शोध करती थीं, उससे जो तथ्य इकट्ठा होता था, वह बहुत व्यापक था और बहुत लोगों से जुड़ा होता था।...