h n

दलित कहानियां और जातिवाद के बीहड़ इलाके (संदर्भ : मोहनदास नैमिशराय)

दलित कथाकार व पत्रकार मोहनदास नैमिशराय की कहानियां सामंती सामाजिक व्यवस्था की तहें उघाड़ती हैं। उनकी कहानियों का पुनर्पाठ कर रहे हैं युवा समालोचक सुरेश कुमार

[दलित साहित्य को आधुनिक रूप में स्थापित करने वालों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले मोहनदास नैमिशराय का जन्म 5 सितम्बर, 1949 को मेरठ (उत्तर प्रदेश) में हुआ था। विषम परिस्थितियों में शिक्षा हासिल करने के बाद वे कुछ समय तक मेरठ के एक कॉलेज में प्रवक्ता रहे। लेकिन बाद में उन्होंने अपना पूरा जीवन दलित पत्रकारिता एवं साहित्य को समर्पित कर दिया। एक पत्रकार के रूप में उन्होंने अनेक राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में दलितों से जुड़े मुद्दों और समस्याओं को उठाया। वहीं बतौर साहित्यकार भी उन्होंने बेबाकीपन व निर्भीकता को बरकरार रखा। उनकी आत्मकथा तीन खंडों में प्रकाशित है– ‘अपने-अपने पिंजरे’ (पहला भाग), ‘अपने-अपने पिंजरे’ (दूसरा भाग) तथा ‘रंग कितने संग मेरे’ (तीसरा भाग) । उनकी प्रकाशित कृतियों में ‘आवाजें’, ‘हमारा जवाब’, ‘दलित कहानियाँ’ (कहानी संग्रह); ‘क्या मुझे खरीदोगे’, ‘मुक्तिपर्व’, ‘आज बाजार बंद है’, ‘झलकारी बाई’, ‘महानायक अम्बेडकर’, ‘जख्म हमारे’, ‘गया में एक अदद दलित’ (उपन्यास); ‘अदालतनामा’, ‘हैलो कामरेड’ (नाटक); ‘सफदर एक बयान’, ‘आग और आंदोलन’ (कविता-संग्रह), आदि शामिल हैं। इसके अलावा ‘दलित पत्रकारिता एक विमर्श’ (चार-भाग), ‘दलित आंदोलन का इतिहास’ (चार भाग), ‘हिन्दी दलित साहित्य’ आदि चर्चित कृतियां हैं। वे लगभग 6 वर्षों तक डॉ. अम्बेडकर प्रतिष्ठान (भारत सरकार) में संपादक रहे। साथ ही कई वर्षों तक बयान पत्रिका का संपादन भी किया। उत्कृष्ट सामाजिक एवं साहित्यिक योगदान के लिए डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर राष्ट्रीय सामाजिक विज्ञान संस्थान, महू (म.प्र.) द्वारा भी उन्हें 2010 में विशेष रूप से सम्मानित किया गया है। युवा समालोचक सुरेश कुमार कर रहे हैं उनकी कहानियों का पुनर्पाठ]

सामंती सामाजिक व्यवस्था की तहें उघाड़ती हैं मोहनदास नैमिशराय की कहानियां

  • सुरेश कुमार

मोहनदास नैमिशराय दलित साहित्य के प्रतिनिधि लेखक और विलक्षण विमर्शकार हैं। सन् 1998 में उनका पहला कहानी संग्रह ‘आवाजें’ प्रकाशित हुआ था। इसके बाद ‘हमारा जवाब’ (2005) और ‘मोहनदास नैमिशराय की चुनी हुई कहानियाँ’ (2017) प्रकाशित हुए हैं। दलित साहित्य के निर्माताओं में शुमार मोहनदास नैमिशराय की कहानियां जातिगत शोषण और सामंतवाद की क्रूरताओं को सामने लाती हैं।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : दलित कहानियां और जातिवाद के बीहड़ इलाके (संदर्भ : मोहनदास नैमिशराय)

लेखक के बारे में

सुरेश कुमार

युवा आलोचक सुरेश कुमार बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से एम.ए. और लखनऊ विश्वविद्यालय से पीएचडी करने के बाद इन दिनों नवजागरण कालीन साहित्य पर स्वतंत्र शोध कार्य कर रहे हैं। इनके अनेक आलेख प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में लेख प्रकाशित हैं।

संबंधित आलेख

इतिहास पर आदिवासियों का दावा करतीं उषाकिरण आत्राम की कविताएं
उषाकिरण आत्राम इतिहास में दफन सच्चाइयों को न सिर्फ उजागर करती हैं, बल्कि उनके पुनर्पाठ के लिए जमीन भी तैयार करती हैं। इतिहास बोध...
हिंदी दलित कथा-साहित्य के तीन दशक : एक पक्ष यह भी
वर्तमान दलित कहानी का एक अश्वेत पक्ष भी है और वह यह कि उसमें राजनीतिक लेखन नहीं हो रहा है। राष्ट्रवाद की राजनीति ने...
‘साझे का संसार’ : बहुजन समझ का संसार
ईश्वर से प्रश्न करना कोई नई बात नहीं है, लेकिन कबीर के ईश्वर पर सवाल खड़ा करना, बुद्ध से उनके संघ-संबंधी प्रश्न पूछना और...
दलित स्त्री विमर्श पर दस्तक देती प्रियंका सोनकर की किताब 
विमर्श और संघर्ष दो अलग-अलग चीजें हैं। पहले कौन, विमर्श या संघर्ष? यह पहले अंडा या मुर्गी वाला जटिल प्रश्न नहीं है। किसी भी...
व्याख्यान  : समतावाद है दलित साहित्य का सामाजिक-सांस्कृतिक आधार 
जो भी दलित साहित्य का विद्यार्थी या अध्येता है, वह इस निष्कर्ष पर पहुंचे बगैर नहीं रहेगा कि ये तीनों चीजें श्रम, स्वप्न और...