उत्तर प्रदेश चुनाव : वर्तमान के आलोक में राजनीतिक बिसात और बहुजन समाज

हाल में मायावती का यह बयान भी गौरतलब है, जिसमें उन्होंने कहा है, कि अगर वे सत्ता में आती हैं, तो परशुराम की विशाल मूर्ति लगवाएंगीं। इससे जाहिर होता है कि उनकी प्राथमिकता में बहुजन समाज नहीं, बल्कि ब्राह्मण समाज है। वहीं सपा सुप्रीमो भी ऐसा ही राग अलाप रहे हैं। बता रहे हैं कंवल भारती

चंद माह बाद होने वाले उत्तरप्रदेश के विधानसभा चुनावों में बहुजन समाज की राजनीतिक स्थिति क्या होगी और किस दल की सरकार बनेगी, ये अब अनसुलझे सवाल नहीं लग रहे हैं। प्रदेश के राजनीतिक हालात जितने आज साफ-साफ दिखाई दे रहे हैं, इससे पहले कभी दिखाई नहीं दिए थे। परिणाम जानने के लिए अब माथापच्ची करने की जरूरत नहीं है। अगर मैं परिणाम बता दूं, तो शायद इस लेख को पढ़ने की रूचि आपके अंदर खत्म हो जाए। आपकी जिज्ञासा बनाए रखने के लिए आवश्यक है कि वर्तमान समय की दलीय स्थिति का जायजा ले लिया जाय।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : उत्तर प्रदेश चुनाव : वर्तमान के आलोक में राजनीतिक बिसात और बहुजन समाज

About The Author

Reply