h category

साहित्‍य

‘चपिया’ : मगही में स्त्री-विमर्श का बहुजन आख्यान (पहला भाग)
कवि गोपाल प्रसाद मतिया के हवाले से कहते हैं कि इंद्र और तमाम हिंदू देवी-देवता सामंतों के तलवार हैं, जिनसे ऊंची जातियों के लोग शूद्रों का सिर काटते हैं और शूद्र स्त्रियों को गुड़िया (एक...
दुनिया नष्ट नहीं होगी, अपनी रचनाओं से साबित करते रहे नचिकेता
बीते 19 दिसंबर, 2023 को बिहार के प्रसिद्ध जन-गीतकार नचिकेता का निधन हो गया। उनकी स्मृति में एक शोकसभा का आयोजन किया गया, जिसे वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. रामवचन राय सहित अनेक वक्ताओं ने संबोधित किया।...
आंबेडकर के बाद अब निशाने पर कबीर
निर्गुण सगुण से परे क्या है? इसका जिक्र कर्मेंदु शिशिर ने नहीं किया। कबीर जो आंखिन-देखी कहते हैं, वह निर्गुण में ही संभव है, सगुण में नहीं। सगुण और निर्गुण उसी तरह के दो अलग-अलग...
कृषक और मजदूर समाज के साहित्यिक प्रतिनिधि नचिकेता नहीं रहे
नचिकेता की कविताओं और गीतों में किसानों के साथ खेतिहर मजदूरों का सवाल भी मुखर होकर सामने आता है, जिनकी वाजिब मजदूरी के लिए जगदेव प्रसाद ने इतिहास में पहली बार खेतिहर मजदूरों को हड़ताल...
‘संजीव का सम्मान कर साहित्य अकादमी ने खुद को किया सम्मानित’
कथाकार संजीव उदय प्रकाश और शिवमूर्ति के समकालीन हैं। राजेंद्र यादव इन तीनों में संजीव को प्रेमचंद के...
मैंने किसी का हक छीना हो तो कोई बताए : संजीव
बहुत साधारण-सी बात आती है कि संकट है क्या? संकट की पहचान कैसे हो? यह व्यंजनात्मक तरीके से...
उषाकिरण आत्राम की कविताओं में स्त्री अस्मिता (संदर्भ : ‘मोट्यारिन’ काव्यसंग्रह)
कवयित्री ने आदिवासी स्त्रियों के संघर्षशील और भावनात्मक विलासिता रहित जीवन को उभारा है। तमाम दुःख-दर्द, वेदना, पीड़ाओं...
जाति-पितृसत्ता-विपन्नता से संघर्ष की व्यथा गाथा (संदर्भ सुशीला टाकभौरे की आत्मकथा)
भारतीय समाज में जाति और गरीबी आपस में गुत्थमगुत्था हैं। दोनों को अलगाना बहुत मुश्किल है। लेकिन जाति...
और आलेख