गोंडी युवती की बलात्कार के बाद हत्या, कार्रवाई के लिए राष्ट्रपति से गुहार

महाराष्ट्र के वर्धा जिले में गोंडी समुदाय की एक युवती के साथ बलात्कार के बाद नृशंस हत्या कर उसकी लाश रेलवे ट्रैक पर फेंक दी गयी। इस अमानवीय घटना के बाद स्थानीय लोग आक्रोशित हैं

महाराष्ट्र के वर्धा जिला के सेलु तहसील के दहेगांव में बीते 19 मार्च गोंडी समुदाय की करीब 19 वर्षीया युवती शुभांगी पिलाजी की हत्या बलात्कार के बाद कर दी गयी। इस मामले में स्थानीय पुलिस अधिकारियों की निष्क्रियता के कारण गोंडी समुदाय के लोगों में गहरा आक्रोश है। इस संबंध में आंबेडकर स्टूडेंट्स फोरम ने  राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द से गुहार लगाई है।

बलात्कार के बाद हत्याकांड के आरोपियों की गिरफ्तारी हेतु राष्ट्रपति को लिखे गए पत्र को दिखाते आंबेडकर स्टूडेंट्स फोरम के सदस्य

राष्ट्रपति को लिखे पत्र में कहा गया है कि गोंड समुदाय की युवती तिरुमाय शुभांगी पिलाजी उइके ग्राम दहेगांव (गोसावी), तहसील-सेलू, जिला-वर्धा की रहने वाली थी। घटना के दिन वह अपनी सहेली के यहाँ पर साक्षगंध नामक कार्यक्रम के लिए गई थी। कार्यक्रम होने के बाद घर लौटते समय उसके साथ बलात्कार के बाद उसकी हत्या कर दी गई व उसका शव नग्न अवस्था में रेलवे की पटरी पर फेंक दिया गया। फोरम ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा है कि यह घटना सामाजिक दृष्टि से बहुत ही शर्मनाक है और महिलाओं की सुरक्षा की दृष्टि से अत्यंत ही गंभीर है| किसी भी सभ्य समाज में इस तरह की घटनाएँ अत्यंत ही जघन्य अपराध की श्रेणी में आती हैं, जिस तरह से राजधानी दिल्ली का निर्भया कांड हुआ और देश-विदेश में इसके लिए प्रतिरोध हुआ। ठीक उसी तरह यह घटना भी उस वीभत्स कांड की पुनरावृति हैं।

फोरम के सदस्यों ने राष्ट्रपति से अनुरोध किया है कि मृतका शुभांगी पिलाजी उइके के कातिलों को गिरफ्तार करके कड़ी से कड़ी सज़ा दी जाए एवं इस मामले को फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट के माध्यम से जल्द से जल्द निस्तारित किया जाए। साथ ही यह भी कहा कि यदि ऐसा नहीं होता है तो अम्बेडकर स्टूडेंट्स फोरम बड़े संवैधानिक आन्दोलन के लिए बाध्य होगा। फोरम के सदस्यों ने पत्र की प्रतिलिपि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस के अलावा महाराष्ट्र सरकार के मुख्य पुलिस महासंचालक आदि को भी प्रेषित किया है।


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply