आदिवासियों के जनसंहार के विरोध में सड़क पर उतरे बीएचयू के छात्र-छात्राएं और बुद्धिजीवी

देश भर में आदिवासियों पर हो रहे बर्बर हमलों और जनसंहारों के खिलाफ पिछले दिनों बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राएं और बुद्धिजीवी सड़क पर उतरे। सभी ने यह कहा कि जल-जंगल-जमीन को लेकर आदिवासियों पर जुल्म ढाया जा रहा है

देश भर में आदिवासियों पर हो रहे बर्बर हमलों और जनसंहारों के खिलाफ बीते 2 मई को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं और बुद्धिजीवियों ने प्रतिरोध मार्च निकाला और सभा की। विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर चौथीराम यादव और प्रोफेसर बलराज पांडेय समेत लगभग सभी वक्ताओं ने एक स्वर में सरकार को आदिवासी विरोधी नीति और व्यवहार के लिए कोसा और रोष व्यक्त किया।

प्रदर्शन का नेत‍ृत्व करते प्रो. चौथी राम यादव

वक्ताओं का कहना था कि नक्सल उन्मूलन के नाम पर पिछले सप्ताह महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में एक फ़र्ज़ी मुठभेड़ में पुलिस व अर्धसैनिक बलों द्वारा 40 से ज्यादा गरीब व बेकसूर आदिवासियों की हत्या कर दी गयी। मरने वालों में आधे से ज्यादा महिलाएं हैं। दूसरी तरफ, झारखंड में चाईबासा के जंगल में बसे आदिवासी गाँवों पर मोर्टार दागे जा रहे हैं, जिसकी वजह से बड़ी संख्या में आदिवासियों के घायल होने और गाँव छोड़कर भागने की खबरें आ रही हैं।

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में बीते दिनों हुए एनकाउंटर के बाद मारे गये आदिवासियों के शव। कथित तौर पर इस एनकाउंटर में 40 से अधिक आदिवासियों की मौत हुई। जबकि सरकार के द्वारा 31 के मारे जाने की पुष्टि हुई है। इनमें 17 महिलायें शामिल हैं

वक्ताओं ने सरकार के इस बयान को झूठा बताया कि ये हमले माओवादियों को खत्म करने के लिए किए जा रहे हैं। सच तो यह है कि सरकार देशी-विदेशी कंपनियों के मुनाफे व लूट के लिए आदिवासियों को उनके जल-जंगल-जमीन से बेदखल करना चाहती है, ताकि पूंजीपतियों को जमीन व प्राकृतिक संसाधनों का बंदरबाँट करने की खुली छूट मिल जाये। विभिन्न कॉर्पोरेट कंपनियों के साथ सरकार ऐसे सैकड़ों करार कर चुकी है।

आदिवासियों पर जुल्म के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान संबोधन करतीं एक वक्ता

सभी लोगों ने एक स्वर में भारतीय राज्य द्वारा अपनी ही जनता के ऊपर छेड़े गए युद्ध का विरोध किया और आदिवासी क्षेत्रों से सेना हटाने और प्राकृतिक संसाधनों की लूट के लिए देशी-विदेशी कंपनियों के साथ किये गए सभी समझौतों और करारों को रद्द करने की माँग की। भगत सिंह छात्र मोर्चा, आइसा, स्टूडेंट्स फ़ॉर चेंज, एपवा, भगत सिंह अम्बेडकर विचार मंच और भारतीय समता परिवार आदि विभिन्न संगठनों के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस प्रतिरोध सभी संगठनों के एक-एक प्रतिनिधियों ने अपनी बात रखी।

कार्यक्रम में भगत सिंह छात्र मोर्चा से आकांक्षा आज़ाद,आरती, विश्वनाथ, प्रियांशु, शाश्वत, विनय, अनुपम, आइसा से आनंद, विवेक, एपवा से कुसुम वर्मा, भारतीय समता परिवार से सुनील कश्यप, अमरेंद्र प्रताप, भगत सिंह अम्बेडकर विचार मंच से सुनील यादव, स्टूडेंट्स फ़ॉर चेंज से स्वाति प्रमुख रूप से शामिल रहे।

 

(कॉपी एडिटर : अनिल)


 

फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply