जेएनयू : छात्रसंघ से जुड़ने की विवि लेगा फीस, शिक्षकों को रोज लगानी होगी हाजिरी

जेएनयू में पहली बार छात्रसंघ से जुड़ने के लिए फीस का प्रावधान रखा गया है। अब अगर कोई विद्यार्थी छात्रसंघ से जुड़ना चाहता है, तो उसे 15 रुपए फीस देनी होगी। जेएनयू के इस नए नियम का छात्रसंघ ने भी विरोध किया है। वहीं नये नियम के हिसाब से शिक्षकों को भी रोज हाजिरी लगानी होगी

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में अब छात्रसंघ से जुड़ने की फीस लगेगी। यह बात जेएनयू में प्रवेश के नए फार्म के सामने आने के बाद आई है। नए फॉर्म के मुताबिक, छात्रसंघ से जुड़ने के लिए 15 रुपए अतिरिक्त देने होंगे। हालांकि, दाखिला लेने वाले छात्र को फॉर्म में ही इस बात की जानकारी देनी होगी कि वह छात्रसंघ से जुड़ना चाहेगा या नहीं। इस तरह एमए के लिए फॉर्म 175 रुपए और एमफिल का फॉर्म 187 रुपए में मिलेगा। इस नए फॉर्म के आने के बाद छात्रसंघ ने इसका विरोध किया है।

आंबेडकर की कालजयी रचना ‘एनिहिलेशन ऑफ कास्ट’ का मुकम्मिल हिंदी अनुवाद ‘जाति का विनाश’ अब अमेजन पर उपलब्ध

छात्रसंघ इसे छात्रों की यूनियन को खत्म करने वाला कदम बता रहा है। इससे पहले जेएनयू में एकेडमिक काउंसिल की बैठक में लिए गए अन्य कई फैसलों पर जेएनयू के शिक्षक संघ ने आपत्ति जताई है, जिसमें छात्रों की उपस्थिति अनिवार्यता के साथ शिक्षकों की उपस्थिति अनिवार्यता के फैसले पर शिक्षक संघ ने सुझाव दिया है कि प्रशासन इन फैसलों को लागू करने से बचे। यदि इन फैसलों को लागू किया जाता है, तो इससे जेएनयू को नुकसान पहुंचेगा। यह फैसले विश्वविद्यालय के शैक्षणिक वातावरण को खराब करेंगे। बता दें कि एकेडमिक काउंसिल में लिए गए फैसले के तहत शिक्षकों को अब दिन में कम से कम एक बार अपनी उपस्थिति दर्ज करानी होगी।


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार 

About The Author

One Response

  1. Anil Kumar Reply

Reply