शिव सैनिकों के हंगामे के बाद मुंबई विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम से बाहर कर दी गई कविता

मराठी के चर्चित कवि दिनकर मनवर की कविता पाणी कसं असतं (पानी का प्रकृति) को शिव सैनिकों के विरोध के चलते मुंबई विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम से हटा दिया गया है। इसके पहले रोहिंटन मिस्त्री के बुकर नामित उपन्यास ‘सच अ लॉन्ग जर्नी’ को  अंग्रेजी के पाठ्यक्रम से इन्हीं शिव सैनिकों के विरोध के चलते हटा दिया गया था। फॉरवर्ड प्रेस की रिपोर्ट :

पाणी कसं असतं (पानी का प्रकृति) एक मराठी कविता है। इसके लेखक चर्चित कवि दिनकर मनवर हैं। कवि ने रूपक के रूप में पानी का प्रयोग समाज में व्याप्त असमानता की चर्चा के लिए किया है। यद्यपि पानी का वास्तव में कोई रंग नहीं है फिर भी कविता में पानी के रंग पर सवाल उठाया गया है। इसमें समाज में वर्ग, जाति, लिंग और धार्मिक विभाजन के महत्त्वपूर्ण प्रश्नों को उठाया गया है। इस कविता में पानी के रंग और उसकी प्रकृति की तुलना कई वस्तुओं से की गई है। कविता के तीसरे पैराग्राफ में इसकी एक पंक्ति है : किंवा आदिवासी पोरीच्या स्तनासारखा झांबला” (या किसी आदिवासी युवती के स्तन की तरह जामुनी रंग का)। एक आदिवासी युवती के स्तन से पानी की तुलना करना मनवर को महंगा पड़ा। मुंबई विश्वविद्यालय के शिव सेना के छात्र संगठन युवा सेना और छात्रभारती विद्यार्थी सेना (सीवीसी) ने “पाणी कसं असतं” (पानी की प्रकृति) नामक इस कविता पर आपत्ति करते हुए इसको स्नातक (मराठी) के तीसरे साल के पाठ्यक्रम से हटा लिए जाने की मांग की थी। बताते चलें कि युवा सेना के अगुवा आदित्य ठाकरे हैं। इन संगठनों के राजनीतिक दबाव के आगे झुकते हुए सात सदस्यीय बोर्ड ऑफ स्टडीज ने अब इस कविता को पाठ्यक्रम से निकालने का निर्णय लिया है।

मुंबई विश्वविद्यालय, मुंबई

दिनकर मनवर मराठी के चर्चित और राज्य सरकार से पुरस्कृृत कवि हैं। उनकी पाणी कसं असतं (पानी का प्रकृति)  कविता को हटाने के संदर्भ में विश्वविद्यालय के अधिकारियों का कहना है कि बोर्ड ऑफ स्टडीज इस कविता को हटना नहीं चाहती थी, लेकिन किसी की भावना आहत ने हो और कोई अप्रत्याशित घटना न घटे इस ध्यान में रखकर इस कविता को पाठ्यक्रम से हटाया गया है। बोर्ड ऑफ स्टडीज के सदस्य डॉ. नीलकंठ शेरे का इस कविता के संदर्भ में कहना है कि कविता का अर्थ बहुत ही सुंदर है पर एक विशेष शब्द का प्रयोग आपत्तिजनक हो सकता है। “कवि को रचनात्मक आजादी हो सकती है, बोर्ड ऑफ स्टडीज ने इसको पाठ्यक्रम में रखकर इस विचार का समर्थन किया है,” यह कहना है सीवीएस के सचिन बांसोड़ का।

कवि दिनकर मनवर

कविता को टीवाईबीए (मराठी) में इसी अकादमिक वर्ष में शामिल किया किया था। बीओएस के सात सदस्यों ने एकमत से इस कविता को पाठ्यक्रम में शामिल किया था। यह कविता मनवर की पुस्तक “दृश्य नसलेल्या दृश्यत” का हिस्सा है जिसे 2016 में बरशिव साहित्य पुरस्कार मिल चुका है। उन्हें अपने एक अन्य कविता संग्रह “अजुनही बरंच काही बाकी” के लिए दो पुरस्कार मिल चुका है।

इस पाठ्यक्रम को चार तरह के साहित्य में विभाजित किया गया है – महानगरीय, नारीवादी, दलित और ग्रामीण साहित्य। यह कविता महानगरीय साहित्य का हिस्सा है। “यह एक बहुत ही सुंदर कविता है जिसे पुरस्कृत कवि ने लिखा है, जो विगत में राज्य सरकार का पुरस्कार भी जीत चुके हैं। यह कविता मानववाद और मानवीय मूल्यों पर आधारित है।

इस संदर्भ में कुछ महत्त्वपूर्ण प्रश्न उठते हैं, पहला यह कि विश्वविद्यालयों में क्या पढ़ाया जायेगा और क्या नहीं, क्या इसका निर्णय राजनीतिक दलों के पसंद-नापसंद के आधार लिया जायेगा? या उस विषय के विशेषज्ञों तय करेगें की कोई रचना पढ़ाई जानी चाहिए या नहीं? जब बोर्ड ऑफ स्टडीज ने सर्वसम्मत इस कविता को पाठक्रम में शामिल किया था और आज भी बोर्ड ऑफ स्टडीज इस कविता के पक्ष में है तो उसने इस कविता को पाठक्रम से बाहर करने का निर्णय क्यों लिया?

( कॉपी संपादन-सिद्धार्थ)

(इनपुट : द टाइम्स ऑफ इंडिया, 29-30 सितम्बर 2018)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। हमारी किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्कृति, सामाज व राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के सूक्ष्म पहलुओं को गहराई से उजागर करती हैं। पुस्तक-सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply