मऊ में आयाेजित डाइवर्सिटी-डे में शिरकत कर रहीं बहुजन हस्तियां

27 अगस्त, 2007 से देश के जाने-माने बहुजन बुदि्धजीवियाें की उपस्थिति में डाइवर्सिटी-डे मनाने को जो सिलसिला शुरू हुआ, वह आजतक अनवरत जारी है। कल यानी 4 नवंबर काे उत्तर प्रदेश के मऊ में 13वें ‘डाइवर्सिटी-डे’ का आयोजन हाेगा, जिसमें बहुजन लेखक, बुदि्धजीवी हिस्सा लेंगे। फारवर्ड प्रेस की रिपाेर्ट :

डाइवर्सिटी के जरिए उद्याेग जगत में आगे बढ़ेंगे बहुजन

समाज में डाइवर्सिटी को स्थापित करने के उद्देश्य से स्थापित किए गए संगठन बहुजन डाइवर्सिटी मिशन द्वारा हर साल डाइवर्सिटी-डेधूमधाम से आयोजित किया जाता है, जिसमें देशभर के अनगिनत ख्यात बहुजन लेखक, बुदि्धजीवियों समेत अन्य क्षेत्रों की विद्वान ​हस्तियां शिरकत करती हैं। पिछले 12 साल से लगातार आयोजित हो रहे डाइवर्सिटी-डेकार्यक्रम यानी 13वें डाइवर्सिटी-डेका आयोजन इस बार 4 नवंबर, 2018 को उत्तर प्रदेश के मऊ जनपद स्थित नगरपालिका कम्युनिटी हॉल में आयोजित होगा।

इस बार 4 नवंबर को भव्य रूप से आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में देश के विभिन्न हिस्सों के जाने-माने प्रमुख लेखक, पत्रकार और शिक्षाविद शिरकत रहे हैं। इस बार के आयोजन में संगठन के संस्थापक अध्यक्ष- जो कि बतौर डाइवर्सिटी मैन के नाम से ख्यात हैंसमेत तमाम जानेमाने लोग, अपनेअपने क्षेत्रों के स्थापित बहुजन नाम हिस्सा लेंगे।

बहुजन डाइवर्सिटी मिशन के संस्थापक अध्यक्ष और ख्यात बहुजन लेखक एचएल दुसाध कहते हैं‘‘आजाद भारत के दलित आंदोलनों के इतिहास में भोपाल सम्मलेन (12-13 जनवरी, 2002) का एक अलग महत्व है, जिसमें 250 से अधिक शीर्ष दलित बुदि्धजीवियाें ने  हिस्सा लिया था। उसमें दो दिनों के गहन विचार मंथन के बाद 21 सूत्रीय भोपाल घोषणा-पत्रजारी हुआ था, जिसमें अमेरिका की डाइवर्सिटी नीति का अनुसरण करते हुए वहां के अश्वेतों की तरह ही भारत के दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों को सप्लायर, डीलर, ठेकेदार इत्यादि बनाने का सपना दिखाया गया था; मगर किसी को भी यकीन नहीं था कि डाइवर्सिटी नीति भारत में लागू भी हो सकती है। भोपाल घोषणा-पत्र जारी करते समय किए गए वादे के मुताबिक,  27 अगस्त 2002 को वरिष्ठ कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह ने अपने राज्य के छात्रावासों और आश्रमों के लिए स्टेशनरी, बिजली का सामान, चादर, दरी, पलंग, टाट-पट्टी, खेलकूद का सामान इत्यादि के नौ लाख 19 हजार के सामान की खरीद का आॅर्डर भोपाल और होशंगाबाद के दलितों, पिछड़ों के 34 उद्यमियों के मध्य वितरित कर भारत में सप्लायर डाइवर्सिटीकी शुरुआत की थी। हमारा संगठन दलितों, पिछड़ों का एकमात्र ऐसा संगठन है, जो आरक्षण से परे हर क्षेत्र में दलितोंपिछड़ों की भागीदारी की लड़ाई जोरशोर से लड़ रहा है।’’

दुसाध आगे बताते हैंदिग्विजय सिंह की उस छोटीसी शुरुआत से दलितों में यह विश्वास पनपा था कि यदि सरकारें चाहें तो सदियों से उद्योग-व्यापार से बहिष्कृत किए गए एससी/एसटी को उद्योगपति-व्यापारी बनाया जा सकता है। इसी का परिणाम था कि डाइवर्सिटी लागू करवाने के लिए दर्जनों संगठन वजूद में आ गए, जिनमें आरके चौधरी का बीएस-4 भी था। बाद में इसी उद्देश्य से उत्तर भारत के दलित लेखकों ने 15 मार्च, 2007 को बहुजन डाइवर्सिटी मिशन’(बीडीएम) संगठन स्थापित, जिसका संस्थापक अध्यक्ष मुझे चुना गया।’’

बकौल एचएल दुसाध‘‘बीडीएम के गठन की प्रकिया के दौरान ही डॉ. संजय पासवान की पहलकदमी पर डाइवर्सिटी पर एक बड़ा सम्मलेन आयोजित करने का मन बनाया गया था। मध्य प्रदेश में लागू हुई सप्लायर डाइवर्सिटीके दिन यानी 27 अगस्त 2006 को यह आयोजन वंचित प्रतिष्ठानऔर एमेटी दलित सिनर्जी फोरमद्वारा दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटरमें संयुक्त रूप से किया गया।’’

 
तब उस आयोजन में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और भारत में डाइवर्सिटी का सूत्रपात्र करने वाले चंद्रभान प्रसाद सहित पद्मश्री डॉ. जगदीश प्रसाद, प्रो. वीरभारत तलवार, पत्रकार अभय कुमार दुबे, चर्चित दलित साहित्यकार डॉ. जय प्रकाश कर्दम, एमेटी विश्वविद्यालय के एके चौहान और मैनेजमेंट गुरु अरिंदम चौधरी जैसे जाने-माने बुदि्धजीवियाें ने शिरकत की थी।

उस आयोजन को डाइवर्सिटी-डेनाम दिया गया। बाद में जब 15 मार्च, 2007 को बीडीएम की स्थापना हुई, तो बहुजन डाइवर्सिटी मिशन से जुड़े लेखकों ने मध्य प्रदेश में लागू हुई सप्लायर डाइवर्सिटी से प्रेरणा लेने के लिए भविष्य में भी डाइवर्सिटी-डेमनाते रहने का निर्णय लिया। इसके बाद हर साल 27 अगस्त, 2007 से देश के जाने-माने बहुजन बुदि्धजीवियाें की उपस्थिति में डाइवर्सिटी-डे मनाने का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह आज तक अनवरत जारी है। हालांकि, पिछले दाे-तीन साल से यह आयोजन तय तिथि पर न होकर आगेपीछे हो रहा है, मगर यह सिलसिला जरूर जारी है। इस बीच डाइवर्सिटी के वैचारिक आंदोलन के चलते उतर प्रदेश, बिहार, उत्तराखंड आदि प्रदेशों में नौकरियों से आगे चलकर उद्योग-व्यापार में हिस्सेदारी में डाइवर्सिटी का सिद्धांत फलित होता जरूर नजर आ रहा है।

इस बार 4 नवंबर को डाइवर्सिटी-डे का हिस्सा बनने वाले प्रमुख लोगों में बुद्ध शरण हंस, डॉ. लाल रत्नाकर, महेंद्र नारायण सिंह यादव, के. नाथ, फ्रैंक हुजूर, विद्या गौतम, डॉ. राम विलास भारती, अरसद सिराज मक्की, सत्येन्द्र पीएस, राजस्थान भीलवाड़ा के ख्यात दलित कार्यकर्ता भंवर मेघवंशी, गोरख पासवान, चंद्रभूषण सिंह यादव, विद्यानंद आजाद, आरके यादव, शिवचंद राम, के.सी. भारती, डॉ. जी. सिंह कश्यप, उमेश कुमार रवि, डॉ. अमरनाथ पासवान, डॉ. राजबहादुर मौर्य, डॉ. राहुल राज, डॉ. कौलेश्वर प्रियदर्शी‘, डॉ. नानटून पासवान, अनूप श्रमिक, निर्देश सिंह, ज्ञानवती पासवान, डॉ. सीपी आर्या,  राजवंशी जे.ए. आंबेडकर, मन्नू पासवान, इकबाल अंसारी, गणेश रवि, झारखंड के गढ़वा से रामाश्रय बौद्ध, कपिलेश प्रसाद, अरमा कुमारी समेत कई अन्य नाम शामिल हैं।

(काॅपी संपादन : प्रेम)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। हमारी किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्कृति, सामाज व राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के सूक्ष्म पहलुओं को गहराई से उजागर करती हैं। पुस्तक-सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply