मथुरा-वृंदावन की यात्रा पर किताब लिखेंगे सामाजिक न्याय के नए दाराेगा!

बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और महुआ के विधायक। अपनी कार्यशैली, फैसलों और यात्राओं को लेकर लगातार चर्चा में रहे हैं। इधर राजद के प्रदेश कार्यालय में दौरे को लेकर चर्चा में हैं

पटना : 22 दिसंबर। टीपी यानी तेज प्रताप यादव। बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और महुआ के विधायक। अपनी कार्यशैली, फैसलों और यात्राओं को लेकर लगातार चर्चा में रहे हैं। इधर राजद के प्रदेश कार्यालय में दौरे को लेकर चर्चा में हैं। आज अनायास ही राजद मुख्यालय में उनसे मुलाकात हो गयी। कार्यालय में घुमने के बाद वे राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव के चैंबर में पहुंचे। संयोग से दरवाजा खुला और हम भी अंदर लपक गए। टीपी ने कहा- आइये। चैंबर में तीन लोग ही थे। हम, टीपी और एक अन्य पत्रकार।

तेज प्रताप यादव : सामाजिक न्याय की राजनीतिक का नया मुकाम!

कुर्सी खींच कर बैठते हुए तेज प्रताप बोले- हम इसी कुर्सी पर पिछली बार बैठे थे और मीडिया वाला छाप दिया कि साहब की कुर्सी पर बैठ गये थे। बातचीत के क्रम में ही हमने अपनी पत्रिका ‘वीरेंद्र यादव न्यूज’ थमा दी। पत्रिका देखने के बाद टीपी ने कहा कि इसे रंगीन छापिये न। हम भी पुस्तक लिख रहे हैं। हमने जिज्ञासा वश पूछा- कौन सी पुस्तक। तेज प्रताप ने कहा कि अपनी मथुरा-वृंदावन यात्रा को लेकर पुस्तक लिख रहे हैं। जल्दी ही छप जाएगी। बात आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा- हम भी एक चैनल शुरू कर रहे हैं। यू-ट्यूब चैनल। थोड़ी देर यात्रा व चैनल पर बातचीत हुई। इसके बाद वे बाहर निकल कर मीडिया को बाईट देने लगे और हम फटफटिया उठा पर चल दिये।
(कॉपी संपादन – अर्चना)

फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

 

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोका

About The Author

Reply