दलित आंदोलन से नहीं बढ़ा जातिवाद, आगे बढ़ा है वंचित तबका

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान में तीन दिवसीय संगोष्ठी के दौरान जेएनयू के प्रोफेसर विवेक कुमार ने विशेष व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा कि दलित आंदोलन के कारण जातिवाद नहीं बढ़ा है। बल्कि इसके कारण वे आगे बढ़े हैं जिन्हें पीछे छोड़ दिया गया था

एडवांस स्टडीज, शिमला में ‘उत्तर भारत में दलित आंदोलन’ पर संगोष्ठी

बीते 28 नवम्बर 2018 को भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान, राष्ट्रपति निवास, शिमला में तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस मौके पर बुद्धिजीवियों ने एक स्वर में यह माना कि सामाजिक शोषण और उत्पीड़न से मुक्ति ही दलित आंदोलन का उद्देश्य है। ‘उत्तर भारत में दलित आंदोलन : सिद्धांत, व्यवहार एवं चुनौतियां’  विषयक संगोष्ठी में जिन तीन बातों पर विचार-विमर्श किया गया उनमें दलित समुदाय से जुड़े मुद्दों को समाजशास्त्रीय ढंग से देखना, दलितों के जीवन में आ रही कठिनाइयों और चुनौतियों की पहचान करना और समाज तथा सरकार को लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के उपाय सुझाना शामिल था।


संगोष्ठी में सभी वक्ता इस बात पर लगभग एकमत थे कि भारत में दलित आंदोलन की अवधारणा का आरम्भ गुलामी से मुक्ति की आंकाक्षाओं से हुआ है। इस संदर्भ में दलित आंदोलन ने न केवल दलित मुक्ति का प्रस्ताव रखा बल्कि उत्पीड़न और दमन की पीड़ा के शिकार आमजनों की मुक्ति की राह भी खोली है। यह दलित राजनीतिक चेतना जहाँ एक तरफ इतिहास और संस्कृति से निकली है वहीं यह मौजूदा समय के सामान्य नजरिये से ऊर्जा ग्रहण करती है। इसे डॉ. आंबेडकर के लेखन और उनकी राजनीति में देखा जा सकता है।

संगोष्ठी के दौरान विचार रखते वक्ता

संगोष्ठी के दौरान उत्तर भारत में दलित आंदोलन के विभिन्न आयामों पर विचार किया गया। मसलन दलित आंदोलन का क्या इतिहास रहा है? यह आंदोलन किन सिद्धांतों/विचारधाराओं/दृष्टिकोणों पर आधारित रहे हैं और इन्होंने दलित आंदोलन को कैसे रूप दिया और उसे आगे बढ़ाया है? इसके अलावा उनका वास्तविक अनुभव क्या रहा है? उन्होंने किन समस्याओं का सामना किया है और उससे किस प्रकार मोलभाव किया है? और इससे उन्हें किस प्रकार की सफलताएं मिली हैं? मुख्यधारा की राजनीति से दलित आंदोलन और दलित प्रश्न का संबंध कैसा रहा है? दलित आंदोलन की विविधता का क्या अर्थ और परिणाम रहा है?

संगोष्ठी के दौरान इन विषयों पर शोध पत्रों को भी प्रस्तुत किया गया। विभिन्न सत्रों के दौरान उत्तर भारत के संदर्भ में, दलित आंदोलनों का अध्ययन, दलित आंदोलनों का इतिहास, दलित आंदोलन में, और दलित आंदोलन का विचार चक्र, दलित आंदोलन का व्यवहार, अनुभव और उसका प्रभाव, दलित आंदोलनों की समस्याएँ, चुनौतियाँ और संभावनाएँ, दलित आंदोलन में जेंडर, वर्ग, अन्य पिछड़े वर्गां और आदिवासी जनों के प्रश्न, संस्कृति एवं साहित्य में दलित आंदोलन, दलित आंदोलनों का देश के अन्य हिस्सों के आंदोलनों से संबंध और तुलनाएं आदि विषयों पर शोध पत्र प्रस्तुत किये गये।

सामाजिक शोषण और उत्पीड़न से मुक्ति ही दलित आंदोलन का उद्देश्य

संगोष्ठी का उद्घाटन हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सिकंदर कुमार द्वारा किया गया। उन्होंने कहा कि सबको साथ लेकर ही एक समतापूर्ण समाज बनाया जा सकता है। लेकिन इसके पहले मनुष्य निर्मित अत्याचार, अपमान को मिटाना होगा। उन्होंने आगे कहा कि हमें समाज को समतामूलक समाज के निर्माण के लिए जाति व्यवस्था के रोग को मिटाना होगा, भेदभाव को खत्म करना होगा। बुखार होने पर सब लोग पैरासीटॉमोल खाते हैं। इसका मतलब है कि सबका खून एक जैसा है, तो फिर मानवीय जीवन में इन्सानों के बीच भेदभाव भी नहीं होना चाहिए। इसके साथ उन्होंने यह भी कहा कि अकादमिक जगत को दलित उत्पीड़न और शोषण को लेकर होने वाली रोज़मर्रा की घटनाओं के साथ भी सहभागिता करनी होगी। तभी इस तरह के अकादमिक विमर्श सामान्य जनों के लिए उपयोगी हो पाएंगे। जब सैद्धांतिकी और रोज़मर्रा की घटनाएं अकादमिक विमर्श का हिस्सा होंगी। अकादमिक शोधार्थियों को भी इस बात पर गौर करना होगा। उत्पीड़न के गहन पक्षों को समझने और जानने के लिए सैद्धांतिकी के साथ ही साथ व्यावहारिक सच्चाईयों और चुनौतियों को भी अकादमिक विमर्श में स्थान देना पड़ेगा।

बहुजन विमर्श को विस्तार देतीं फारवर्ड प्रेस की पुस्तकें

इस मौके पर जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय के समाजशास्त्र विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर विवेक कुमार द्वारा बीज वक्तव्य दिया गया। उन्होंने कहा कि समाजशास्त्र को दलित समाज की सच्चाइयों को अनुभव आधारित होना है, उसे और नयी प्रविधियां अपनानी है। उन्होंने स्पष्ट किया कि दलित आंदोलन के आने से जातिवाद नहीं बढ़ा है बल्कि इसके आने से राजनीति में वे लोग शामिल हुए हैं जो पीछे छोड़ दिए गए थे। इसके साथ ही साथ उन्होने इस बात पर भी बल दिया कि सामाजिक आंदोलनों को देखते समय उनका अध्ययन करते समय शोध की नई ठोस और वस्तुगत सच्चाईयों को ध्यान में रखना होगा।

संगोष्ठी को संबोधित करते जेएनयू के प्रोफेसर विवेक कुमार

उद्घाटन सत्र के दौरान समाजशास्त्री प्रोफेसर आनंद कुमार और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. संजय पासवान ने विशेष व्याख्यान दिया। वहीं गोबिंद बल्लभ पन्त सामाजिक विज्ञान संस्थान के निदेशक एवं प्रसिद्ध समाज विज्ञानी बद्री नारायण द्वारा समापन वक्क्तव्य दिया गया।

दलित आंदोलन के विभिन्न आयामों पर विचार-विमर्श

संगोष्ठी के दूसरे सत्र “पोलिटिकल इकॉनमी ऑफ एमेन्शिपेशन”  की अध्यक्षता और संचालन बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय, लखनऊ के समाज़शास्त्री प्रोफेसर बी. बी. मलिक द्वारा की गई। इस सत्र में तीन प्रस्तुतीकरण सम्पन्न हुये। प्रथम प्रस्तुति गिरि विकास अध्ययन संस्थान लखनऊ के समाज विज्ञानी डॉ. प्रशांत त्रिवेदी ने ‘समकालीन दलित आंदोलन की नवीन दुविधायें: सवाल दलित पूँजीवाद का’ विषय पर अपना पत्र प्रस्तुत किया। उन्होंने दलित समुदाय और  दलित आंदोलन के अंदर उभर रहे नए मध्य वर्ग के साथ ही साथ दलित बृर्जुआ की बात की। इसके साथ ही दलित मुक्ति और दलित आंदोलन को नव उदारवादी आर्थिक संदर्भों के विभिन्न परिप्रेक्ष्यों की बातें भी कही। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि आज की दलित समस्याओं को नव उदारवाद, निजीकरण एवं वैश्वीकरण की नीतियों के साथ भी देखना होगा।


संगोष्ठी के संयोजक डॉ.अजय कुमार ने बताया कि संगोष्ठी के विषय को पहले अखिल भारतीय स्तर पर करने का विचार था यानी पूरे भारत में दलित आंदोलन के सिद्धांतों, अनुभवों और चुनौतियों को लेकर एक राष्ट्रीय विमर्श की योजना थी। फिर इसे उत्तर भारत तक सीमित किया गया, जिससे गहन रूप से इस पर विचार हो सके। उन्होंने बताया कि उत्तर भारत में बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, छत्तीसगढ़, झारखंड, में दलित आंदोलन पिछले तीन दशकों से जबर्दस्त रूप से मौजूद हैं।  इस पर सैद्धांतिक शोध अमेरिका, यूरोप में हो रहा है। इसके साथ ही साथ हैदराबाद, जेएनयू में हो रहा हैं। दलित आंदोलन के अनुभवों पर कुछ बेहतरीन शोध गिड्स लखनऊ, जी.बी. पंत सामाजिक विज्ञान संस्थान इलाहाबाद, में हो रहे हैं। या फिर इसके साथ ही देश-विदेश में दलित प्रश्न से जुड़े मुद्दों पर शोध करने वाले विद्वानों और शोधकर्ताओं में किसी नेटवर्क, समझदारी और साझे प्लेटफार्म का अभाव है।

भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान, शिमला में संगोष्ठी में शामिल बुद्धिजीवियों की ग्रुप फोटो

युवा अध्येताओं ने रखे अपने विचार

संगोष्ठी के हर सत्र में प्रतिभागियों ने अपने विचारोत्तेजक सवालों के माध्यम से हर सत्र को वैचारिक रूप से रोचक बनाया। इन सवालों पर खुलकर विचार-विमर्श हुआ। जिससे संगोष्ठी का हर सत्र काफी रचनात्मक वैचारिक बहस-मुबाहिसें के साथ ही ज्ञान के उत्पादन का साधन बनता दिखाई दिया।  इनमें जितेंद्र, अंकित, गौरव, प्रवीण, फैज़ान, देबस्मिता, कमल नयन, आकांक्षा और कंचन आदि शामिल रहे। गांधी, जोतीराव फुले-अम्बेडकर के बारे में निशिकान्त, शुभनीत और बिप्लव ने इतिहास के विमर्शों को नए स्रोतों, नए उद्देश्यों के साथ कुछ चिरन्तन प्रश्नों पर अपने विचार रखे। प्रोफेसर आनंद कुमार, और प्रोफेसर विवेक कुमार, प्रोफेसर बद्री नारायण, प्रो़फेसर अभय कुमार दुबे के पर्चों में  आंदोलन के अतीत-वर्तमान और भविष्य के बारे में बातें की गईं।

संगोष्ठी का औपचारिक समापन संस्थान के सभी अधिकारियों, कर्मचारियों संगोष्ठी हेतु आए सभी अथिति अध्येताओं, विद्वानों को धन्यवाद करते हुए की गई। संगोष्ठी के संयोजक और भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान, में  फ़ेलो डॉ. अजय कुमार ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

(कॉपी संपादन : एफपी डेस्क)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

 

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोका

About The Author

Reply