जंतर-मंतर पर धरना-प्रदर्शन करेंगे देशभर के कारीगर

देशभर के विभिन्न क्षेत्रों के कारीगर 15 फरवरी को दिल्ली के जंतर-मंतर पर एकत्र हो केंद्र सरकार से उनके लिए मंत्रालय, आयोग और विकास बोर्ड की मांग करते आर्टीजन वेलफेयर आर्गेनाईजेशन के बैनर तले हुए धरना-प्रदर्शन करेंगे

समाजसेवी संस्था आर्टीजन वेलफेयर आर्गेनाईजेशन (एचओसी), नई दिल्ली द्वारा 15 फरवरी को नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर विभिन्न मांगों को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ एक दिवसीय राष्ट्रीय धरना-प्रदर्शन का आयोजन किया जाएगा।

एचओसी के राष्ट्रीय सलाहकार डॉ. पी.एन. शंकरन के अनुसार, आर्टीजन वेलफेयर आर्गेनाईजेशन असंगठित क्षेत्र के बढ़ई, लोहार, ताम्रकार, स्वर्णकार, शिल्पकार, बुनकर, प्रजापति/कुम्हार, बसोड़, मनिहार, घुमंतू, निर्माण कारीगरों आदि का संगठन है।

जंतर-मंतर पर धरना-प्रदर्शन की प्रतीकात्मक तस्वीर

उन्होंने बताया कि उनकी संस्था इन कारीगरों और कामगारों के लिए केंद्र सराकर से कुछ मांगें करता है। इनमें राष्ट्रीय कारीगर मंत्रालय का गठन, राष्ट्रीय कारीगर आयोग का गठन और राष्ट्रीय कारीगर विकास बोर्ड का गठन आदि प्रमुख हैं।

एक कामगार (बढ़ई) की प्रतीकात्मक तस्वीर

धरना-प्रदर्शन का उद्घाटन चर्चित ट्रेड यूनियन लीडर डी. थंकप्पन करेंगे। धरना-प्रदर्शन को जांगिड़ ब्राह्मण महासभा (नई दिल्ली), भारतीय बढ़ई समाज (उत्तर प्रदेश), अखिल भारतीय विश्वकर्मा विराट संघ (नई दिल्ली), अखिल भारतीय विश्वकर्मा विराट संघ (नई दिल्ली), महाराष्ट्र लोहार समाज संगठन (नागपुर, महाराष्ट्र), भारतीय स्वर्णकार समाज (नई दिल्ली), छत्तीसगढ़ लोहार एकता मंच (बस्तर), अखिल भारतीय स्वर्णकार संघ (नई दिल्ली), भारतीय कारीगर मंच (नई दिल्ली), बढ़ई समाज (नई दिल्ली), पंचाल समाज नरेला (नई दिल्ली)

डॉ पी. एन. शंकरन

पटवा समाज (नई दिल्ली) एवं अनेक सहयोगी संगठनों का समर्थन और एचओसी के संस्थापक व्ही. विश्वनाथन आचारी, राष्ट्रीय अध्यक्ष एस.एन. हिवलेकर, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अरुण विश्वकर्मा, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. विश्वनाथ सोनी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एडवोकेट मोहनकृष्ण, राष्ट्रीय महासचिव सोनी रामचंद्र एवं रामचन्द्र येरपुडे, संयोजक संतोष ओझा तथा लोक सभा के पूर्व सेक्रेटरी जनरल पी.डी.टी. आचारी का विशेष सहयोग रहेगा। धरना-प्रदर्शन में देशभर के कामगार भाग लेंगे।

(कॉपी संपादन : प्रेम)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply