गुलाबी नगर में आयोजित हो रहा तीन दिवसीय बहुजन साहित्य महोत्सव

जयपुर स्थित डॉ. आंबेडकर वेलफेयर सोसायटी में आज से तीन दिवसीय बहुजन साहित्य महोत्सव का आयोजन हो रहा है

जयपुर। राजस्थान की राजधानी यानी गुलाबी नगर के नाम से प्रसिद्ध जयपुर में आज से तीन दिवसीय बहुजन साहित्य महोत्सव का आयोजन हो रहा है।  महोत्सव के मुख्य संयोजक प्रभात पोस्ट के संपादक इंजीनियर राजकुमार मल्होत्रा हैं। यह आयोजन झालाना सांस्थानिक क्षेत्र में स्थित दूरदर्शन केंद्र के सामने डॉ. आंबेडकर वेलफेयर सोसायटी में आयोजित हो रहा है।

राजकुमार मल्होत्रा ने बताया कि. “महोत्सव में देशभर से दलित-बहुजन साहित्य के प्रकाशक, दलित-बहुजन साहित्यकार, समाजसेवी लोग व संस्थाएं, मानवाधिकार आयोग के कुछ सदस्य, यूनिवर्सिटीज-कॉलेजों के दलित-बहुजन प्रोफेसर, मीडियाकर्मी आदि भाग लेंगे। यह द्वितीय बड़ा बहुजन साहित्य महोत्सव है, जो तीन दिन- 15 फरवरी से 17 फरवरी तक चलेगा।” पिछले वर्ष भी यह आयोजन किया गया था।

महोत्सव के कुल नौ सत्र – बहुजन साहित्य की अवधारणा, समृद्ध लोकतंत्र में मीडिया की स्वतंत्रता एवं निष्पक्षता तथा बहुजनों का योगदान, आदिवासियों के संघर्ष : जल-जंगल और जमीन व पीईएसए, बहुजन साहित्य में महिला अधिकारों के सवाल एवं सशक्तिकरण के लिए एक ईमानदार प्रयास, भारतीय संविधान के समक्ष चुनौतियां विशेषकर धर्म निरपेक्षता के संदर्भ में, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर डॉ. आंबेडकर की बढ़ती लोकप्रियता व विश्व शांति के लिए संदेश, किसानों की बढ़ती हुई समस्याएं : समाधान हेतु महात्मा जोतीराव फुले के विचारों की प्रासंगिकता, बदलते हुए परिप्रेक्ष्य में निजी क्षेत्र में आरक्षण की आवश्यकता, और संविधान के रास्ते : बहुजनों के वास्ते आदि होंगे। वक्ताओं, साहित्यकारों और सम्मेलन में भाग लेने वालों के लिए भोजन व ठहरने आदि की व्यवस्था भी की गई है।

वर्ष 2017 में जयपुर में आयोजित हुए बहुजन साहित्य महोत्सव की एक झलक

इस महोत्सव के मुख्य संरक्षक पूर्व केंद्रीय मंत्री अरविन्द नेताम, पूर्व केंद्रीय मंत्री व बिहार विधान परिषद के मौजूदा सदस्य डॉ. संजय पासवान, मुख्य आयकर आयुक्त (बिहार एवं झारखंड) के.सी. घुमरिया एवं मुख्य आयोजक डॉ. आमना मिर्जा (दिल्ली), चरणजीत सिंह (पंजाब), हीरानन्द कटारिया (जयपुर), डॉ. ओमप्रकाश (जयपुर), निशा ओरॉव (झारखंड), एस.के. चंवर (अरुणाचल प्रदेश), अनूप सिंह (जयपुर), अली भाई (जयपुर), डॉ. सुनीता डहरिया (मध्य प्रदेश), कर्नल एस.एस. छावल (दिल्ली), अनिल गोव्वाल (जयपुर), माँगीलाल पंवार (जयपुर), डॉ. लाल सिंह बौद्ध (हरियाणा), किशोरी लाल मीणा (महाराष्ट्र), अब्दुल लतीफ आरको (जयपुर) तथा डॉ. ज्ञानसिंह गुर्जर (जयपुर) हैं। 


फारवर्ड प्रेस की पुस्तकें भी रहेंगी उपलब्ध

बहुजन साहित्य महोत्सव में आप फारवर्ड प्रेस द्वारा प्रकाशित बहुमूल्य पुस्तकों को खरीद सकेंगे। इन पुस्तकों की बिक्री सीधे फारवर्ड प्रेस के प्रतिनिधि क्षितिज कुमार द्वारा की जा रही है, ताकि आप सीधे किताब खरीदकर विशेष छूट का लाभ ले सकें। इन पुस्तकों में  ‘महिषासुर : एक जननायक’, ‘महिषासुर : मिथक और परंपराएं’, ‘दलित पैंथर’, ‘जाति के प्रश्न पर कबीर’, ‘जाति का विनाश’, ‘बहुजन साहित्य की प्रस्तावना’, ‘चिंतन के जनसरोकार’, ‘महिषासुर अ पीपल्स हीरो’, ‘मदर इंडिया’, ‘आरएसएस और बहुजन चिंतन’, ‘द केस फॉर बहुजन चिंतन’, ‘द केनन मैन स्पीक आउट’, ‘कैसे बनाएं जीवन को खूबसूरत’ आदि उपलब्ध हैं।

(कॉपी संपादन : प्रेम)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply