जंतर-मंतर पर 11 फरवरी को फिर होगा सवर्ण आरक्षण के खिलाफ जुटान

बीते 31 जनवरी 2019 को नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर बड़े विरोध प्रदर्शन के बाद एक बार फिर 11 फरवरी को धरना का आह्वान किया गया है। बताया जा रहा है कि इस धरना में राष्ट्रीय जनता दल, आम आदमी पार्टी, मुस्लिम लीग, एआईएमएम, डीएमके, एआईडीएमके के  नेतागण आदि भाग लेंगे

सवर्ण आरक्षण तथा विश्वविद्यालयों में विभागवार रोस्टर के खिलाफ आंदोलन तेज होता जा रहा है। इस कड़ी में बीते 31 जनवरी 2019 को नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर बड़े विरोध प्रदर्शन के बाद एक बार फिर 11 फरवरी को धरना का आह्वान किया गया है। यह आह्वान ऑल इंडिया बैकवर्ड फेडरेशन द्वारा किया गया है। बताया जा रहा है कि इस धरना में राष्ट्रीय जनता दल, आम आदमी पार्टी, मुस्लिम लीग, एआईएमएम, डीएमके, एआईएडीएमके के  नेतागण आदि भाग लेंगे।

इस अवसर पर एक बार फिर संविधान अधिनियम (103 वां संशोधन) 2019 को वापस लेने, ओबीसी को सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के जजों, राष्ट्रीय स्कूल शिक्षा और प्राथमिक स्वास्थ्य में  52 प्रतिशत आरक्षण देने संबंधी मांगों को उठाया जाएगा।

31 जनवरी 2019 को दिल्ली के जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन करते युवा

ऑल इंडिया बैकवर्ड फेडरेशन द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि सवर्ण वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर हिस्से के लिए 10 प्रतिशत का आरक्षण दिया गया है, उसे भी सवर्ण वर्ग के वो लोग हासिल नहीं कर सकते जो कि इसके पात्र हैं और अपनी दैनिक ज़रूरतों की पूर्ति के लिए दिहाड़ी मजदूरी करते हैं। साथ ही कहा गया है कि आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण देना भेदभावयुक्त है और अनुच्छेद 14,15 और 16 की समानता के सिद्धांत के ख़िलाफ़ है।

(कॉपी संपादन : एफपी डेस्क)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

 

About The Author

One Response

  1. Sanjay Kumar Reply

Reply