ट्राइबल फोरम के कहानीकारों ने प्रस्तुत कीं यथार्थ से जुड़ी कहानियां

प्रसिद्ध लेखिका रमणिका गुप्ता ने रमणिका फाउंडेशन के कार्यालय पर बीती 9 फरवरी को मासिक गोष्ठी का आयोजन किया। गोष्ठी में लक्ष्मीकमल गीडम, अभय कुमार और अरुणा सब्बरवाल ने कहानी पाठ किया

रमणिका फाउंडेशन, युद्धरत आम आदमी और ऑल इंडिया ट्राइबल लिटरेरी फोरम के संयोजन में बीती 9 फरवरी को डिफेंस कॉलोनी में मासिक गोष्ठी आयोजित की गई। प्रसिद्ध लेखिका रमणिका गुप्ता की अध्यक्षता में हुई इस मासिक गोष्ठी में लेखकों ने अपनी कहानियां प्रस्तुत कीं।

लेखिका रमणिका गुप्ता

इनमें लक्ष्मीकमल गीडम ने ‘ओट’ कहानी सुनाई, जिसमें निम्न वर्ग की महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों और उनकी परेशानियों का मार्मिक वर्णन किया गया है; अभय कुमार ने अपनी कहानी ‘सार्वजनिक सोच’ में जमींदारी प्रथा और निम्न स्तर के लोगों को गुलामी से न निकलने देने के षड्यंत्र का सजीव चित्रण किया; वहीं, अरुणा सब्बरवाल ने ‘और आस्थाएं छिटक गईं’ के माध्यम से एक स्त्री के स्वयं को पाने की लालसा और जीवन की जद्दोजहद पर कहानी कही। इस तरह तीनों ही कहानीकारों ने अपनी-अपनी कहानियों के माध्यम से अलग-अलग जीवन पहलुओं और युगबोध के दृश्यों को उकेरकर श्रोताओं का मन मोहते हुए समां बांधा।

गोष्ठी में कहानी प्रस्तुत करतीं एक कहानीकार

गोष्ठी की आयोजक रमणिका गुप्ता अपनी बीमारी का इलाज कराकर अस्पताल से लौंटी, फिर भी लगातार श्रोताओं की तरह अंत तक कार्यक्रम में उपस्थित रहीं और अंत में उन्होंने सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया।

गोष्ठी के उपरांत रमणिका गुप्ता के साथ उपस्थित कहानीकार और श्रोतागण

इस मासिक गोष्ठी का संचालन पंकज शर्मा ने किया; जिसमें मोनिका, खालिद हसन, पिंकी कुमारी, सविता, सरिता मारवाह, मृदुला नरुला, बालकीर्ति, जया, पंकज इंकलाबी, अशोक कुमार और मोहम्मद आसिफ की गरिमामयी उपस्थिति रही।

(कॉपी संपादन -प्रेम)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply