कौन और किसकी बेटियां हैं शेल्टर गृहों में यौन पिपासा की शिकार लड़कियां?

बिहार के मुजफ्फरपुर और उत्तर प्रदेश के देवरिया में शेल्टर गृहों में रहने वाली बच्चियों के साथ अमानवीय व्यवहार की खबरें आहत करने वाली हैं। बड़ा सवाल यह है कि ये बच्चियां कौन हैं? कहां से इन गृहों में आती हैं, क्या ये हमारे समाज की बेटियां नहीं? सवाल पूछ रहे हैं सिद्धार्थ :

बिहार के मुजफ्फरपुर और उत्तर प्रदेश के बालिका संरक्षण गृह या शेल्टर होम में रहने वाली बच्चियों का इस्तेमाल प्रभावशाली लोगों की यौन पिपासा शान्त करने के लिए किया जाता था, यह सच सामने आने के बाद हर संवेदनशील व्यक्ति शर्मसार महसूस कर रहा है। इन बच्चियों ने जो आपबीती सुनाई है, उससे किसी की भी रूह कांप जाय। सबसे दुखद और भीतर से तोड़ देने वाली बात यह है इन बेटियों के साथ शर्मसार कर देन वाला अपराध उन लोगों की देखरेख में हुआ, जिन्हें उनकी परवरिश और सुरक्षा की जिम्मेदारी दी गई थी यानी जिन्हें एक तरह से इनका मां-बाप बनाया गया था।

केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी के अनुसार देश भर के 9 हजार बाल संरक्षण गृहों में कुल 2 लाख 33 हजार बच्चे  रहते हैं। इनमें बड़ी संख्या में बच्चियां हैं। अधिकांश बालिका गृहों के वही हालात हैं, जो मुजफ्फरपुर या देवरिया में सामने आये हैं । इस तरह के तथ्य पहले भी देश के अन्य हिस्सों से आते रहे हैं। जब 2017 में तमिलनाडु के महाबलीपुरम् में एक एनजीओ और सरकार के साझे में चलाये जाने वाले अनाथालय के संदर्भ में यह तथ्य आया कि यहां के बच्चे-बच्चियों का इस्तेमाल देशी-विदेशी पर्यटकों की यौन पिपासा शान्त करने के लिए होता है और इसके बदले में उनसे पैसे लिए जाते हैं, तब सर्वोच्च न्यायालय ने इस तरह के सभी गृहों के पंजीकरण और जांच के संदर्भ में सख्त निर्देश मई 2017 में दिया था।

बिहार के मुजफ्फरपुर के शेल्टर गृह में बच्चियों के साथ बलात्कार काे लेकर विरोध प्रदर्शन करती महिलायें

प्रश्न यह है कि आखिर कौन हैं, ये बच्चियां? कहां से संरक्षण गृहों में लायी जाती हैं, ये किनकी बेटियां है? इनके मां-बाप कहां गए? ये क्यों इतनी बेबस और लाचार हैं कि इनके साथ मानवता को कंपा देने वाला व्यवहार भी किया जाये तो वे इसका विरोध नहीं कर सकतीं, प्रतिवाद नहीं कर सकतीं? ये क्यों कुछ भी सहने को विवश हैं?

ये वे बेटियां हैं, जिनका दुनिया में ऐसा कोई नहीं है, जिन्हें वे अपना कह सकें। ये अनाथ, बेसहारा, लाचार, मजबूर  या परिवार और समाज द्वारा दुत्कारी गई हैं, फेंक दी गई हैं। इनकी कई श्रेणियां हैं। कुछ बच्चियां ऐसी हैं, जिन्हें जन्म लेते ही, उनकी मां ने छोड़ दिया। ये किसी अस्पताल, किसी कूड़ेदान, किसी सार्वजनिक स्थल पर या अन्य कहीं पाई गईं। आप सभी आये दिन यह अखबार में पढ़ते होंगे कि एक नवजात बच्ची पाई गई।

घर बैठे खरीदें फारवर्ड प्रेस की किताबें

संरक्षण गृहों में जो कुछ इनके साथ हो रहा है, उसे देखते हुए दुर्भाग्य कहें या सौभाग्य इनमें से कुछ नवजात बच्चियों पर किसी की नजर पड़ जाती है, वह पुलिस के सहयोग इन्हें अनाथालय पहुंचा देता है। इनमें से कुछ बेटियां ऐसी हैं, जो सड़कों पर घूमते और भीख मांगते पुलिस या किसी एनजीओ को मिलती हैं, जो इन्हें इन संरक्षण गृहों में पहुंचा देते हैं। इनमें अधिकांश बलात्कार या हवस का शिकार बन चुकी होती हैं। ये शारीरिक और मानसिक तौर पर कमजोर और भीतर से टूटी हुई लड़कियां होती हैं। शेल्टर होम इन्हें थोड़ा सहारा देते हैं। यहां लाई जाने वाली लड़कियों का एक समूह ऐसा है, जो लड़कियों की तस्करी करने वाले गिरोहों के हाथ लग गईं। इन तस्करों ने उन्हें देह व्यापार करने वालों के हाथों बेच दिया। ये कई बार बेचीं और खरीदी जाती हैं। ऐसे भी तथ्य सामने हैं, जब एक लड़की पचासों बार खरीदी और बेची गई। इनमें से कुछ लड़कियां छापेमारी या किसी अन्य तरीके से पुलिस के हाथ लग जाती हैं और पुलिस उन्हें किसी शेल्टर होम में भेज देती है। इनमें कुछ तो खुद भागकर ऐसी जगहों से निकल आती हैं और शेल्टर होम ही उनका सहारा होता है।

बिहार के मुजफ्फरपुर के शेल्टर गृह में बच्चियों के साथ बलात्कार काे लेकर विधानसभा में विरोध प्रदर्शन करते मुख्य विपक्षी दल राजद के सदस्यगण

एक अच्छी-खासी संख्या में लड़कियां साम्प्रदायिक, जातीय या अन्य  संघर्षरत क्षेत्रों से आती है। जिन संघर्षों में इनके माता-पिता मार दिए जाते हैं और ये अनाथ और बेसहारा हो जाती हैं।

कुछ लड़कियां वेश्यालयों से मुक्त कराई जाती हैं। ये लड़कियां अपना जिस्म बेचने वाली महिलाओं की नाबालिग बेटियां होती हैं या जिन्हें इस धंधे में झोक दिया गया होता है। पुलिस अक्सर समय-समय पर ऐसी जगहों पर छापे मारती है और दावा करती है कि इतनी लड़कियों को मुक्त कराया गया। इन तथाकथित मुक्त कराई गई लड़कियों को इन्हीं बालिका संरक्षण गृहों में भेज दिया जाता है। लड़कियों के  एक और समूह को यहां लाया जाता है। ये वे लड़किया हैं, जो किसी के प्रेम में पड़ जाती हैं, घर छोड़कर भाग निकलती हैं। बाद में प्रेमी द्वारा छोड़ दी जाती हैं और घर वापस लौटने का हिम्मत नहीं दिखा पाती और मारी-मारी फिरती हैं। अन्ततोगत्वा इनमें से कुछ के लिए ये शेल्टर होम ही उनका आश्रय स्थल बनते हैं। इन संरक्षण गृहों में लाई जाने वाली कुछ लड़कियां कुछ तुच्छ अपराध करते हुए पकड़ी जाती हैं जिसमें ब्रेड चुराने जैसा अपराध भी शामिल है।

बिहार के इसी शेल्टर होम में किया गया 29 बच्चियों के साथ बलात्कार

इन अनाथ और बेसहारा लड़कियों में एक बड़ी संख्या उन लड़कियों की है, जिनके मां-बाप और परिवार के अन्य सदस्यों की असमय मृत्यु हो गई या वे इस हालात में नहीं रहे कि अपनी बेटियों को दो जून की रोटी भी दे सकें। इसके कई कारण हैं। पहला तो यह कि देश के अलग-अलग हिस्सों में समय-समय पर प्राकृतिक आपदायें आती रहती हैं। कभी बाढ़, कभी सूखा, कभी तूफान,कभी भूकंप और कभी सूनामी। इन प्राकृतिक आपदाओं के समय बहुत सारे बच्चे-बच्चियां अनाथ और बेसहारा हो जाती हैं और उन्हें संरक्षण गृहों में भेज दिया जाता है। इसके अलावा देश का एक बड़ा हिस्सा गरीबी में जीता है, प्रतिदिन कमाकर खाने से ही उनका जीवन चलता है, यदि परिवार के कमाऊ सदस्य की असमय मृत्यु हो जाती है या वह विकलांग हो जाता है या गंभीर तौर पर बीमार हो जाता है, तो परिवार गंभीर आर्थिक संकट में आ जाता है। ऐसे परिवारों की भी बच्चियां विभिन्न तरीकों से इन संरक्षण गृहों में आती हैंं। इसके साथ गावों को छोड़कर शहरों की मलिन बस्तियों में रहने वाले एकल परिवार की बच्चियों  को भी माता-पिता के न रहने पर मजबूरन यहां शरण लेना पड़ता है।

शेल्टर गृहों में ठूंस दी जाने वाली या पनाह पाने वाली इन लाखों लड़कियाें का कोई अपना नहीं। जिनका कोई अपना नहीं, उनके बारे में माना जाता है कि उनके लिए सरकार होती है, लेकिन जब सरकार के ही नुमाइंदे और समाज के प्रभावशाली लोग ऐसी लड़कियों का इस्तेमाल अपनी यौन पिपासा शान्त करने, बेताहाशा धन कमाने एवं राजनीतिक ताकत बढ़ाने के लिए करने लगें तब क्या किया जाय?

(कॉपी एडिटर : एफपी डेस्क)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

 

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply