दादरा नगर हवेली : मूल निवासियों के तेवर देख विहिप और बजरंग दल ने दबाई दुम!

महिषासुर-दुर्गा विवाद की आंच दादर नगर हवेली तक पहुंच गई है। यहां का बहुसंख्यक आदिवासी समुदाय महिषासुर को अपने नायक रूप में याद कर रहा है, लेकिन हिंदूवादी संगठन हिंदू देवी-देवताओं को इन लोगों पर थोपना चाहते हैं। धीरूभाई छोटूभाई पटेल जैसे आदिवासी कार्यकर्ताओं पर झूठे मुकदमें थोपे जा रहे हैं। प्रेमा नेगी की रिपोर्ट :

यह घटना उस जगह की है, जिसका नाम हम उत्तर भारत के लोग सिर्फ जनरल नॉलेज अथवा भूगोल की किताबों में पढ़ते हैं। अखबारों में उस जगह का जिक्र शायद ही कभी आता है। वह जगह है दादरा-नगर-हवेली। उत्तर भारत के मैदानों से चली सांस्कृतिक वर्चस्व के विरोध की हवा केंद्र शासित प्रदेश में सोशल मीडिया के पंखों पर सवार होकर पहुंची।

नतीजा यह हुआ कि अक्टूबर, 2017 में दादरा नगर हवेली के बामसेफ से जुड़े आदिवासी समुदाय से संबंध रखने वाले धीरूभाई छोटूभाई पटेल के खिलाफ दुर्गा और शिव-पार्वती का अपमान करने का मुकदमा किया गया। लेकिन जब वहां का मूल निवासी बहुजन समुदाय ने अपने तेवर दिखाए तो आंखें तरेर रहे बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने अपनी दुम दबा ली।

पूरा आर्टिकल यहां पढें दादरा नगर हवेली : मूल निवासियों के तेवर देख विहिप और बजरंग दल ने दबाई दुम!

 

Tags:

About The Author

Reply