बागवानी से बदल रही परहिया आदिम आदिवासियों की जिंदगी

झारखंड में आठ आदिम जनजातियों के लोग रहते हैं जिनकी आबादी दिनोंदिन घटती जा रही है। विकास के पैमाने पर अत्यंत पिछड़ी इन जनजातियों में एक समुदाय परहिया भी है। लेकिन बागवानी ने इनके जीवन को नया आयाम दिया है। फारवर्ड प्रेस की खबर :

झारखंड की राजधानी रांची से लगभग 190 किलोमीटर दूर है लातेहार जिला। इस जिले के मनिका प्रखंड में एक गांव है लंका और इसी लंका गांव के एक टोला उचुवाबाल में रहते हैं परहिया समुदाय के करीब 80 परिवार। परहिया झारखंड में आठ अादिम जनजातियों में से एक समुदाय है जो अब विलुप्ति के कगार पर है। यह समुदाय पलामू प्रमंडल के लातेहार, गढ़वा और पलामू जिला में रहता है। सामाजिक कार्यकर्ता अश्विनी कुमार पंकज के अनुसार परहिया समुदाय की आबादी अब दस हजार से कम हो गयी है।

पूरा आर्टिकल यहां पढें बागवानी से बदल रही परहिया आदिम आदिवासियों की जिंदगी

 

Tags:

About The Author

Reply