लालू की तरह मोदी ने किया सवर्णों का सफाया!

लालू यादव ने सवर्णों की सामाजिक सत्ता को चुनौती थी और उसकी जड़ को हिला दिया था। इसके खिलाफ सवर्ण गोलबंद होकर नया राजनीतिक विकल्प गढ़ रहे थे। यानी लालू की रणनी‍ति के बीच सवर्णों में संघर्ष की धुकधुकी बची हुई थी। लेकिन नरेंद्र मोदी की चाल से सवर्णों का स्वाभिमान ध्वस्त हो गया  

बहस-तलब

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू यादव और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में वैचारिक रूप से अनेक मतभेद हो सकते हैं। सत्ता की लड़ाई में दोनों एक-दूसरे को शिकस्त देने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। लेकिन सामाजिक स्तर पर दोनों में जबरदस्त समानता है। दोनों का जन्म स्वतंत्र भारत में हुआ। दोनों ने सामाजिक प्रताड़ना झेली है। नरेंद्र मोदी चाय बेचते थे तो लालू यादव दूध बेचते थे।

अब दोनों का राजनीति ही धंधा-पानी है। वोटों के गणित और समाजशास्त्र में माहिर हैं। लालू मंडल की राजनीति करते हैं और मोदी कमंडल की। लालू यादव ‘भूराबाल’ साफ करने की बात करते थे और नरेंद्र मोदी ने भूराबाल ‘फूंक’ दिया। लालू यादव ने भूराबाल के पनपने की संभावना छोड़ दी थी, लेकिन नरेंद्र मोदी ने भूराबाल का ‘जड़’ ही मिटा दिया।

राजद प्रमुख लालू प्रसाद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

लालू यादव ने सवर्णों की सामाजिक सत्ता को चुनौती थी और उसकी जड़ को हिला दिया था। राजनीतिक और सामाजिक संस्थाओं पर से सवर्णों का आधिपत्य उखड़ गया था। इसके खिलाफ सवर्ण गोलबंद होकर नया राजनीतिक विकल्प गढ़ रहे थे। यानी लालू की रणनी‍ति के बीच सवर्णों में संघर्ष की धुकधुकी बची हुई थी। लेकिन नरेंद्र मोदी की चाल से सवर्णों का स्वाभिमान ध्वस्त हो गया। कल तक झोला में प्रतिभा का ‘नगाड़ा’ लेकर घुमने वाला सवर्ण समाज अब झोले में जाति प्रमाण और आय प्रमाण पत्र का आवेदन लेकर घुम रहा है। सड़कों पर आरक्षण के खिलाफ ‘आत्मदाह’ करने वाला सवर्ण युवा आज सीओ कार्यालय में जाति प्रमाण पत्र के लिए लाइन में खड़ा है।

यह भी पढ़ें : जस्टिस ईश्वरैया ने दी सवर्ण आरक्षण को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

नरेंद्र मोदी ने तथाकथित गरीब सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देकर सवर्णों के स्वाभिमान और श्रेष्ठता को ध्वस्त कर दिया है। श्रेष्ठता का दावा करने वाला सवर्ण समाज अब गरीब होने का दावा करने में उलझ गया है। लालू यादव सामाजिक परिवर्तन की लड़ाई में सामाजिक स्तर पर सवर्णों को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा पाये थे। जबकि नरेंद्र मोदी ने सवर्णों को आरक्षण का ‘नया पतरा’ थमा कर उनका गुरूर को मटिया‍मेट कर दिया। वजह साफ है कि लालू यादव सवर्णों के खिलाफ आमने-सामने की लड़ाई लड़ रहे थे, जबकि नरेंद्र मोदी ने सवर्णों के अंदर से स्वाभिमान में दीमक लगा दिया है। सवर्ण आरक्षण के नाम पर जश्न मनाने वाला समाज आरक्षण के दीमक से घुन जाएगा। 50 प्रतिशत के लिए संघर्ष करने वाला समाज 10 प्रतिशत के लिए संघर्ष करेगा।

दरअसल नरेंद्र मोदी ने लालू यादव के सपने का साकार किया है। लोहिया, कर्पूरी ठाकुर और लालू यादव के दशकों के संघर्ष ने सामाजिक परिवर्तन जो काम नहीं कर सका, वह काम नरेंद्र मोदी के एक निर्णय ने कर दिया। इसका लाभ आ‍खिरकार ओबीसी समाज को ही मिलेगा। इससे ओबीसी समाज का सामाजिक उन्नयन के साथ उनका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। इसका दूरगामी प्रभाव होगा।

(कॉपी संपादन : एफपी डेस्क)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। हमारी किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्कृति, सामाज व राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के सूक्ष्म पहलुओं को गहराई से उजागर करती हैं। पुस्तक-सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

आरएसएस और बहुजन चिंतन (लेखक : कंवल भारती)

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

2 Comments

  1. Shrawan Deore Reply
  2. रामलाल गुप्ता Reply

Reply